Latest News

सरकार के रडार पर जामताड़ा: यहां टेलीकॉम सेवाओं को बंद करने पर विचार कर रहा है केंद्र

N7News Admin 16-02-2021 07:58 PM देश



नमन


नई दिल्ली।

देश में लगातार ऑनलाइन फ्रॉड (Online Froud) के मामले बढ़ते जा रहे हैं जिनपर शिकंजा कसने के लिए केंद्र सरकार कड़ा कदम उठाने जा रही है। केंद्र सरकार ऐसे जालसाजी के मामलों पर लगाम लगाने के लिए योजना बना रही है। इस बात की जानकारी केंद्रीय सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय (Communications Ministry) ने दी है। 

सरकार ने अनचाहे कॉल्स और ऑानलाइन फ्रॉड के जरिए आए दिन होने वाली धोखाधड़ी व अनचाही कॉल की रोकथाम के लिए डिजिटल इंटेलिजेंस यूनिट (Digital Intelligence Unit) के गठन का निर्णय लिया है। इससे कानून लागू करवाने वाली एजेंसी, बैंक और सर्विस देने वाली ऐजेंसियों के बीच समन्वय स्थापित करने में मदद मिलेगी। सोमवार को टेलीकॉम मंत्री रवि शंकर प्रसाद की अध्यक्षता में हुई बैठक में ये फैसला लिया गया है।  

बीकानेर

देश में इन दिनों फर्जी कॉल और टेक्स मैजेस भेजकर ठगी का धंधा बड़े पैमाने पर चल रहा है, लेकिन ऐसे अपराध को अंजाम देने वालों की अब खैर नहीं है। अब सरकार फ्रॉड मैनेजमेंट और कंजूमर प्रोटेक्शन के लिए एक पोर्टल बनाने जा रही है, जिनके माध्यम से ग्राहक टेलीकॉम कंपनियों को अनचाहे कॉल, एसएमएस और वित्तीय धोखाधड़ी की शिकायत कर सकेंगे। इसके तहत ग्राहकों को अनचाहे कॉमर्शियल कॉल या एसएमएस भेजने वाली कंपनियों पर जुर्माने का प्रावधान किया जा रहा है। 

देश के दो शहर हैं सरकार की रडार पर 

कहा जा रहा है कि सरकार को ऐसी जानकारी मिली है कि फर्जी कॉल का धंधा मुख्यतौर पर देश के दो शहरों से चलाया जा रहा है। ये है हरियाणा में मेवात और झारखंड में जामताड़ा। कहा जा रहा है कि इन दो शहरों में टेलीकॉम सेवाओं को बंद करने को लेकर विचार किया जा रहा है। एक अधिकारी ने नाम न छापने की शर्त पर कहा कि इन दो शहरों में टेलीकॉम सेवाओं पर बंद करने को लेकर विचार किया जा रहा है।  बता दें कि झारखंड के जामताड़ा में साइबर ठगों का जाल बिछा है। कई फर्जीवाड़े के मामलों के तार जामताड़ा से जुड़े हुए थे। 

सरकार का प्लान

सरकारी सूत्रों के मुताबिक डिजिटल इंटेलिजेंस यूनिट (DIU) एक नोडल एजेंसी के रूप में काम करेगी। मंत्रालय ने सोमवार को एक बयान में कहा, 'DIU अलग-अलग LEAs (कानून प्रवर्तन एजेंसियों), वित्तीय संस्थानों, और दूरसंचार संसाधनों से जुड़े किसी भी धोखाधड़ी गतिविधि की जांच में दूरसंचार सेवा देने वाली कंपनियों के साथ मिलकर काम करेगी। '

धोखेबाजों पर की जाएगी कठोर कार्रवाई

बैठक में ये तय किया गया कि धोखेबाजों को किसी का भी पैसा नहीं हड़पने नहीं दिया जाए। मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि वित्तीय धोखाधड़ी के लिए दूरसंचार साधनों का इस्तेमाल तेजी से बढ़ा है। इनके जरिए आम आदमी की गाढ़ी कमाई को हड़पा जा रहा है। उन्होंने निर्देश दिया कि ऐसे गलत कामों को रोकने के लिए कठोर दंडनीय कार्रवाई की जाए।   


kozy





रिलेटेड पोस्ट