Latest News

WhatsApp में मिली बड़ी खामी: Google Search में दिखे नंबर्स और प्राइवेट ग्रुप्स के ज्वाइनिंग Link

N7News Admin 11-01-2021 06:16 PM टेक & ऑटो

Symbolic Image



बीकानेर


नई दिल्ली। 

WhatsApp अपनी नई प्राइवेसी पॉलिसी को लेकर विवादों में है।  नई प्राइवेसी पॉलिसी में WhatsApp ने मोटे तौर पर ये साफ कर दिया है कि यूजर्स की चैट तो सिक्योर हैं, लेकिन यूजर डेटा पर फेसबुक की पूरी नजर रहेगी। अब WhatsApp की एक और गड़बड़ी सामने आयी है जो कुछ साल पहले भी आई थी। 

दरअसल, एक बार फिर से WhatsApp ग्रुप्स Google Search में दिखने लगे। यानी किसी भी प्राइवेट WhatsApp ग्रुप को यूजर्स गूगल सर्च करके ज्वाइन किया जा सकता है।इससे पहले 2019 में वॉट्सऐप ग्रुप गूगल सर्च में दिखने लगे थे, जिसके बाद कंपनी ने दलील दी और इसे ठीक किया गया। 

whatsapp

सिक्योरिटी रिसर्चर के मुताबिक एक बार फिर से गूगल सर्च में WhatsApp यूजर्स के कॉन्टैक्ट्स भी दिख रहे हैं। इससे पहले गूगल सर्च में WhatsApp यूजर्स के प्रोफाइल भी दिखने लगे। हालांकि अब WhatsApp ने एक बार फिर से इन खामियों को ठीक भी कर लिया है। WhatsApp ने एक न्यूज वेबसाइट को भेजे गए स्टेटमेंट में कहा है कि अब इसे ठीक कर लिया गया है। 

WhatsApp ने सफाई देते हुए ये कहा है कि जब भी कोई ग्रुप ज्वाइन करता है तो उस ग्रप के ऐडमिन को उसका नोटिस मिलता है और वो चाहे तो किसी भी टाइम इन्वाइट लिंक को बदल सकता है या रिवोक कर सकता है। 

लेकिन ये मामला काफी गंभीर है। भले ही WhatsApp ने ये इश्यू ठीक कर लिया है, लेकिन एक बार फिर से अब ये साबित हो रहा है कि Privacy के मामले में WhatsApp धीरे-धीरे खोखला होता जा रहा है।


नमन





रिलेटेड पोस्ट

  • चार साल के बाद जेल से रिहा हुई वी के शशिकला
    एआईएडीएमके से निष्कासित नेता वी के शशिकला को आज अधिकारियों ने औपचारिकताएं पूरी करने के बाद जेल से रिहा कर दिया। शशिकला कोरोना वायरस से संक्रमित होने के बाद विक्टोरिया अस्पताल में भर्ती हैं और उनकी रिहाई की प्रक्रिया अस्पताल से पूरी की गई।
  • Farmers Protest : हिंसा के बाद दो किसान संगठनों ने खत्म किया आंदोलन, टिकैत पर लगाए आरोप
    गणतंत्र दिवस (Republic Day) पर निकाली गई किसान ट्रैक्टर रैली (Kisan Tractor Rally) के दौरान मचे बवाल और हिंसा के बाद किसान आंदोलन (Kisan Andolan) में फूट पड़ गई है। दो किसान संगठनों ने नए कृषि कानूनों के खिलाफ हो रहे आंदोलन को वापस लेने का ऐलान किया है। राष्ट्रीय किसान मजदूर संगठन और भारतीय किसान यूनियन (भानू) ने गाजीपुर और नोएडा बॉर्डर पर चल रहे प्रदर्शन को वापस ले लिया। इसके साथ भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्ता राकेश टिकैत पर गंभीर आरोप भी लगाए।