Latest News

पानी की टंकी बनाने वाली फैक्ट्री में जोरदार Blast, चार गंभीर रूप से झुलसे

N7News Admin 07-01-2021 10:32 PM गिरीडीह




गिरिडीह।

गिरिडीह शहर के मकतपुर-अरगाघाट के श्रम कल्याण केन्द्र स्थित पानी का टंकी बनाने की फैक्ट्री में गुरुवार की शाम आग लगने के साथ ब्लास्ट हुआ। ब्लास्टिंग में चार कर्मी गंभीर रुप से जख्मी हो गये।

घायलों को आनन-फानन में इलाज के लिए शहर के सदर अस्पताल भेजा गया, जहां चारों का इलाज किया जा रहा है।
जख्मी लोगों में यूपी निवासी युवराज सिंह, गिरिडीह के रिंकू दास, गुड्डु और राजू शामिल हैं। इसमें युवराज सिंह की हालात चिंताजनक बनी हुई है। जिसे बेहतर इलाज के लिए बाहर रेफर किये जाने की बात कही जा रही है।

प्रत्यक्षदर्शियों की मानें तो ब्लास्टिंग इतना जबरदस्त था कि आसपास के कई घर थर्रा उठे। शहर की घनी आबादी में हुए ब्लास्ट की आवाज के बाद इलाके में अफरा-तफरी का माहौल  हो गया। ब्लास्टिंग की आवाज सुनकर ही करीब तीन सौ मीटर दूर के लोगों की भीड़ घटनास्थल में जुट गयी।

घटना के वक्त फैक्ट्री में टंकी निर्माण का काम चल रहा था।
घटना के वक्त भी फैक्ट्री के भीतर करीब डेढ़ दर्जन से अधिक कॉमर्शियल गैस सिलेंडर रखे हुए थे। गनीमत रही कि फैक्ट्री के भीतर रखे गैस सिलेंडर तक आग नहीं पहुंची थी।

प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार घटना के बाद फैक्ट्री प्रबंधन ने कुछ पल के लिए फैक्ट्री गेट को बंद कर दिया। जानकारी मिलने के बाद नगर थाना प्रभारी रामनारायण चौधरी पहुंचे तो अग्निशमन विभाग की गाड़ी के साथ एक एंबुलेस भी पहुंचा। इसी एंबुलेंस से जख्मी कर्मियों को सदर अस्पताल पहुंचाया गया।

हालांकि घटना कैसे हुई, इस पर कोई स्पष्ट जानकारी नहीं है। पुलिस छानबीन कर रही है।





रिलेटेड पोस्ट

  • चार साल के बाद जेल से रिहा हुई वी के शशिकला
    एआईएडीएमके से निष्कासित नेता वी के शशिकला को आज अधिकारियों ने औपचारिकताएं पूरी करने के बाद जेल से रिहा कर दिया। शशिकला कोरोना वायरस से संक्रमित होने के बाद विक्टोरिया अस्पताल में भर्ती हैं और उनकी रिहाई की प्रक्रिया अस्पताल से पूरी की गई।
  • Farmers Protest : हिंसा के बाद दो किसान संगठनों ने खत्म किया आंदोलन, टिकैत पर लगाए आरोप
    गणतंत्र दिवस (Republic Day) पर निकाली गई किसान ट्रैक्टर रैली (Kisan Tractor Rally) के दौरान मचे बवाल और हिंसा के बाद किसान आंदोलन (Kisan Andolan) में फूट पड़ गई है। दो किसान संगठनों ने नए कृषि कानूनों के खिलाफ हो रहे आंदोलन को वापस लेने का ऐलान किया है। राष्ट्रीय किसान मजदूर संगठन और भारतीय किसान यूनियन (भानू) ने गाजीपुर और नोएडा बॉर्डर पर चल रहे प्रदर्शन को वापस ले लिया। इसके साथ भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्ता राकेश टिकैत पर गंभीर आरोप भी लगाए।