Latest News

COVID-19 Effect: आगरा में इस बार नहीं होगा ताज महोत्सव

N7News Admin 07-01-2021 06:14 PM राज्य



बीकानेर


आगरा। 

कोरोना वायरस संक्रमण के कारण ताजनगरी आगरा में बीते 30 वर्ष से लगातार आयोजित हो रहे ताज महोत्सव पर ब्रेक लग गया है। इस बार 18 से 27 फरवरी तक आगरा में ताज महोत्सव नहीं होगा।

ताज महोत्सव स्थगित

आगरा का ताज महोत्सव भी कोरोना वायरस के कहर तथा इसके नये स्ट्रेन के कारण स्थगित कर दिया गया है। आगरा में पहले 18 से 27 फरवरी तक ताज महोत्सव का आयोजन होना था। लेकिन उत्तर प्रदेश में कोरोना वायरस का संक्रमण बीते वर्ष आगरा से ही शुरू हुआ था। इसी कारण प्रदेश सरकार ने इस बार किसी भी बड़े महोत्सव के आयोजन को लेकर बेहद सतर्कता बरत रही है।

30 वर्ष में पहली बार ताज महोत्सव का आयोजन नहीं होगा

30 वर्ष में यह पहली बार होगा कि ताज महोत्सव का आयोजन नहीं होगा। ताज महोत्सव की शुरुआत साल 1992 से हुई थी, तब से लेकर आज तक हर साल फरवरी महीने में इसका आयोजन किया जाता रहा है। ताज महोत्सव के दौरान यहां का माहौल खास हो जाता था। दस दिनी इस ताज महोत्सव में तरह-तरह के रंगारंग कार्यक्रम, गीत-संगीत, नृत्य, बॉलीवुड नाइट, कला-संस्कृति और लजीज व्यंजनों का लोग लुत्फ उठाने के लिए पहुंचते थे। ताजमहल के नजदीक शिल्पग्राम में आयोजित होने वाले इस महोत्सव को उत्तर प्रदेश पर्यटन विभाग आयोजित करता है।

पर्यटकों के साथ-साथ व्यापारियों के लिए भी बड़ा झटका

ताज महोत्सव स्थगित होना पर्यटकों के साथ-साथ व्यापारियों के लिए भी बड़ा झटका है। दस दिनी महोत्सव में हमेशा पर्यटकों के साथ बड़ी संख्या में व्यापारी आगरा में इकठ्ठा होते थे। दुनियाभर से पर्यटक हर वर्ष आगरा में ताजमहल का दीदार करने आते हैं। कोरोना वायरस संक्रमण के कारण लम्बे लॉकडाउन के बाद कोविड प्रोटोकॉल के कारण करीब दस महीने से यहां पर पर्यटकों का आना बंद है। अंतरराष्ट्रीय उड़ानों पर बंदिश के कारण भी यहां का पर्यटन उद्योग काफी प्रभावित हो गया है।


नमन





रिलेटेड पोस्ट

  • चार साल के बाद जेल से रिहा हुई वी के शशिकला
    एआईएडीएमके से निष्कासित नेता वी के शशिकला को आज अधिकारियों ने औपचारिकताएं पूरी करने के बाद जेल से रिहा कर दिया। शशिकला कोरोना वायरस से संक्रमित होने के बाद विक्टोरिया अस्पताल में भर्ती हैं और उनकी रिहाई की प्रक्रिया अस्पताल से पूरी की गई।
  • Farmers Protest : हिंसा के बाद दो किसान संगठनों ने खत्म किया आंदोलन, टिकैत पर लगाए आरोप
    गणतंत्र दिवस (Republic Day) पर निकाली गई किसान ट्रैक्टर रैली (Kisan Tractor Rally) के दौरान मचे बवाल और हिंसा के बाद किसान आंदोलन (Kisan Andolan) में फूट पड़ गई है। दो किसान संगठनों ने नए कृषि कानूनों के खिलाफ हो रहे आंदोलन को वापस लेने का ऐलान किया है। राष्ट्रीय किसान मजदूर संगठन और भारतीय किसान यूनियन (भानू) ने गाजीपुर और नोएडा बॉर्डर पर चल रहे प्रदर्शन को वापस ले लिया। इसके साथ भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्ता राकेश टिकैत पर गंभीर आरोप भी लगाए।