Latest News

​UPI ट्रांजैक्शन पर देना होगा अब चार्ज? जानिए NPCI ने क्या कहा

N7News Admin 01-01-2021 06:48 PM टाॅप न्यूज़

Symbolic Image



बीकानेर


नई दिल्ली।

देश में UPI ट्रांजैक्शन पर चार्ज लगने के सम्बन्ध में नेशनल पेमेंट्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (NPCI) ने बयान जारी कर सफाई दी है। NPCI ने कहा है कि 1 जनवरी 2021 से UPI ट्रांजैक्शन पर चार्ज की खबर गलत है। इसके साथ उसने सभी लोगों से ऐसी गलत जानकारी का शिकार नहीं होने का भी अनुरोध किया है। NPCI ने सभी ग्राहकों से ऐसी कहानियों में भरोसा नहीं करने और बना किसी रूकावट और आसान यूपीआई ट्रांजैक्शन को जारी रखने की अपील की है। 

UPI से जुड़ा नियम बदलने की थीं खबरें

इसस पहले ऐसी रिपोर्ट्स थीं कि आज से UPI से जुड़ा एक नियम बदल रहा है। रिपोर्ट्स थीं कि NPCI ने UPI में प्रोसेस्ड ट्रांजेक्शन के कुल वॉल्यूम पर 30 फीसदी की सीमा लगाई है जो सभी थर्ड पार्टी ऐप प्रोवाइडर्स (TPAPs) के लिए लागू है। यह नियम 1 जनवरी 2021 से लागू होगा। 30 फीसदी की सीमा को पिछले तीन महीने के दौरान UPI में प्रोसेस्ड ट्रांजैक्शन के कुल वॉल्यूम के आधार पर कैलकुलेट किया जाएगा। जिसे NPCI ने गलत करार दिया है। 

Also Read: देश में कोरोना वायरस का नया स्ट्रेन: अब तक 29 में संक्रमण की पुष्टि

क्या है UPI?

यूनिफाइड पेमेंट्स इंटरफेस (UPI) यूजर्स को पैसे ट्रांसफर, बिजली, मोबाइल फोन, ब्रॉडबैंड आदि के बिल का भुगतान करने की सुविधा देता है। इसके अलावा यूजर्स इससे इंश्योरेंस पॉलिसी को खरीद और रिन्यू करा सकते हैं, रिलीफ फंड में डोनेशन दे सकते हैं, मोबाइल फोन, डीटीएच कनेक्शन और मेट्रो कार्ड रिचार्ज कर सकते हैं। UPI के जरिए यूजर्स मूवी, बस और ट्रेन की टिकट बुक करा सकते हैं. इसके अलावा UPI के इस्तेमाल से ग्राहक रेस्टोरेंट, किराना स्टोर्स और दूसरी दुकानों पर बिल का भुगतान भी कर सकते हैं। 

UPI से यूजर्स किसी भी समय रियल टाइम बेसिस पर पैसे ट्रांसफर कर सकते हैं। इसमें वे एक से ज्यादा बैंक अकाउंट्स का इस्तेमाल कर सकते हैं और एक बैंक अकाउंट की जानकारी दूसरी पार्टी को बताने की जरूरत नहीं होती है। 


नमन





रिलेटेड पोस्ट

  • चार साल के बाद जेल से रिहा हुई वी के शशिकला
    एआईएडीएमके से निष्कासित नेता वी के शशिकला को आज अधिकारियों ने औपचारिकताएं पूरी करने के बाद जेल से रिहा कर दिया। शशिकला कोरोना वायरस से संक्रमित होने के बाद विक्टोरिया अस्पताल में भर्ती हैं और उनकी रिहाई की प्रक्रिया अस्पताल से पूरी की गई।
  • Farmers Protest : हिंसा के बाद दो किसान संगठनों ने खत्म किया आंदोलन, टिकैत पर लगाए आरोप
    गणतंत्र दिवस (Republic Day) पर निकाली गई किसान ट्रैक्टर रैली (Kisan Tractor Rally) के दौरान मचे बवाल और हिंसा के बाद किसान आंदोलन (Kisan Andolan) में फूट पड़ गई है। दो किसान संगठनों ने नए कृषि कानूनों के खिलाफ हो रहे आंदोलन को वापस लेने का ऐलान किया है। राष्ट्रीय किसान मजदूर संगठन और भारतीय किसान यूनियन (भानू) ने गाजीपुर और नोएडा बॉर्डर पर चल रहे प्रदर्शन को वापस ले लिया। इसके साथ भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्ता राकेश टिकैत पर गंभीर आरोप भी लगाए।