Latest News

SP अमरजीत बलिहार हत्याकांड में शामिल नक्सली समेत दो गिरफ्तार, दोनों पर है 10-10 लाख रुपए का इनाम

N7News Admin 28-12-2020 05:14 PM दुमका



बीकानेर


दुमका।

गिरिडीह पुलिस और CRPF-154 बटालियन ने दो इनामी नक्सलियों को गिरफ्तार किया है। इनमें से एक नक्सली 2013 में पाकुड़ के SP अमरजीत बलिहार और उनके बॉडीगार्ड्स की हत्या में शामिल रहा है। दोनों नक्सलियों पर 10-10 लाख रुपए के इनाम हैं। सुरक्षाबलों ने दोनों की निशानदेही पर भारी मात्रा में हथियार और गोलियां भी बरामद की है। 

सोमवार को संथाल परगना प्रक्षेत्र के डीआईजी सुदर्शन मंडल ने प्रेस कांफ्रेंस कर जानकारी दी कि गिरफ्तार नक्सलियों में गिरिडीह निवासी प्रशांत दा उर्फ छुटका मांझी उर्फ सूरज दा जबकि शिकारीपाड़ा का रहने वाला सुधीर उर्फ सुलेमान किस्कू शामिल है। दोनों ने संथाल परगना में घटित कई कांड में अपनी संलिप्तता बताई है। सुधीर, SP अमरजीत बलिहार की हत्या में शामिल रहा है। ये 2019 तक संथाल परगना में हुई सभी नक्सल घटनाओं में मुख्य भूमिका में रहा है।

गिरफ्तार किए गए नक्सलियों की निशानदेही पर पुलिस ने दो इंसास राइफल, 2 SLR राइफल, एक .303 राइफल, एक .315 राइफल, 1 कोल्ट AR15 राइफल, 1 मैगजीन इंसास, 4 मैगजीन SLR, 1 मैगजीन .303, 18 मैगजीन चार्जर, 50 राउंड इंसास गोली, 135 राउंड SLR गोली, 1000 डेटोनेटर व 5 नियोजेल बरामद किया है।

पुलिस के अनुसार, सुधीर को ताला दा उर्फ सहदेव राय के मरने के बाद दुमका क्षेत्र की कमान दी गई थी। सुधीर 2 जून 2019 को रानेश्वर थाना क्षेत्र के कठलिया में हुए एनकाउंटर में शामिल रहा है। इसमें SSB-35 बटालियन, दुमका के जवान नीरज क्षेत्री शहीद हो गए थे। पूछताछ में दोनों नक्सलियों ने गिरिडीह में ठिकाना होने की बात स्वीकार की है।


नमन





रिलेटेड पोस्ट

  • चार साल के बाद जेल से रिहा हुई वी के शशिकला
    एआईएडीएमके से निष्कासित नेता वी के शशिकला को आज अधिकारियों ने औपचारिकताएं पूरी करने के बाद जेल से रिहा कर दिया। शशिकला कोरोना वायरस से संक्रमित होने के बाद विक्टोरिया अस्पताल में भर्ती हैं और उनकी रिहाई की प्रक्रिया अस्पताल से पूरी की गई।
  • Farmers Protest : हिंसा के बाद दो किसान संगठनों ने खत्म किया आंदोलन, टिकैत पर लगाए आरोप
    गणतंत्र दिवस (Republic Day) पर निकाली गई किसान ट्रैक्टर रैली (Kisan Tractor Rally) के दौरान मचे बवाल और हिंसा के बाद किसान आंदोलन (Kisan Andolan) में फूट पड़ गई है। दो किसान संगठनों ने नए कृषि कानूनों के खिलाफ हो रहे आंदोलन को वापस लेने का ऐलान किया है। राष्ट्रीय किसान मजदूर संगठन और भारतीय किसान यूनियन (भानू) ने गाजीपुर और नोएडा बॉर्डर पर चल रहे प्रदर्शन को वापस ले लिया। इसके साथ भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्ता राकेश टिकैत पर गंभीर आरोप भी लगाए।