Latest News

हम भीख नहीं मांगेंगे बल्कि छीन कर अपना अधिकार लेंगे,कोरोना ही नहीं केंद्र भी बड़ी चुनौती:हेमंत 

N7News Admin 17-10-2020 08:12 PM विशेष ख़बर




देवघर। 

झारखंड ही नहीं पूर्वोत्तर भारत के सबसे खूबसूरत और भव्य नगर निगम कार्यालय भवन,देवघर का उद्घाटन सूबे के मुखिया हेमन्त सोरेन ने शनिवार को किया. इसके साथ ही देवघर वासियों के लिए शहरी जलापूर्ति योजना का भी शिलान्यास मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन ने किया. इस मौके पर सीएम हेमंत सोरेन ने भाजपा की सरकार झारखंड की बदहाली का जिम्मेवार ठहराया. 

देश में कोरोना के लिए भाजपा जिम्मेवार 

दरअसल, आयोजित उद्घाटन व शिलान्यास समारोह के दौरान मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन केंद्र सरकार पर जमकर बरसे. झारखंड की बदहाली का जिम्मेवार के अलावा देश में कोरोना के लिए भी भाजपा जिम्मेवार ठहराया. मुख्यमंत्री ने कहा कि केंद्र की भाजपा सरकार ने कोरोना को हवाई जहाज से लाया है. सात समुंदर पार से उड़कर यह बीमारी आयी है. सीएम ने कहा कि जब दुनिया  में कोरोना का संक्रमण बढ़ रहा था तो केंद्र सरकार ट्रंप के आवभगत में लगी हुई थी. उसके बाद जो हुआ देश की जनता सब भुगत रही है. हेमंत ने कहा कि देश की अर्थव्यवस्था को केंद्र की भाजपा सरकार ने चौपट कर रखा है. 

झारखंड सरकार को कमजोर करने में लगी है केंद्र सरकार 

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने कहा कि केंद्र सरकार झारखंड को उसका हक नहीं दे रही है. जब राज्य में भाजपा की सरकार थी तो इन लोगों ने डीवीसी को एक पैसा नहीं दिया. अब जब हमारी सरकार बनी तो झारखंड के हिस्से का पैसा काट लिया गया. सीएम ने कहा कि केंद्र सरकार अलग तरह की लड़ाई की तैयारी है कि कैसे झारखंड की सरकार को कमजोर किया जाये. मुख्यमंत्री ने कहा कि अब हमारे सामने कोरोना ही नहीं केंद्र सरकार भी बहुत बड़ी चुनौती है. केंद्र की भाजपा सरकार नहीं चाहती कि झारखंड का विकास हो. इसके लिए हमें अलग से लड़ाई लड़नी है. इसके लिए भी हम तैयारी कर रहे हैं.

भीख नहीं मांगेंगे बल्कि छीन कर अपना अधिकार लेंगे

मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारे राज्य के खनिज से दूसरे राज्य और देश को फायदा पहुंचाया जा रहा है. सारा खनिज बाहर जा रहा है. लेकिन झारखंड के हक का पैसा केंद्र सरकार नहीं दे रही है. इसलिए ऐसा न हो कि यहां की जनता सबकुछ अपने हाथ में ले ले और देश अंधकार में चला जाये. सीएम ने यहाँ तक कहा कि केंद्र हमारी सहनशीलता और सीधेपन का गलत फायदा नहीं उठाये. हम भीख नहीं मांगेंगे बल्कि छीन कर अपना अधिकार लेंगे. उन्होंने कहा कि झारखंड के लोग जानते हैं अधिकार कैसे लिया जाता है. यहां की जनता ने लड़कर अलग राज्य लिया है अब छिन कर अधिकार भी लेना जानती है.

रोजगार के लिए बाहर नहीं जायेगी राज्य की महिलाएं

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने उपलब्धियों की भी चर्चा की. उन्होंने कहा कि कोरोना संक्रमण काल में सबसे अधिक प्रभावित गरीब और मध्यम वर्गीय परिवार हुए हैं. कोरोना काल में देश के कोने-कोने में काम करने वाले हमारे यहां के मजदूरों को वापस लाया गया. अब हमारी सरकार उन सभी के लिए कई स्तर से रोजगार के अवसर पैदा कर रही है. हेमंत सोरेन ने कहा कि 7.50 लाख लोगों को रोजगार देने का काम कोरोना संक्रमण काल में हुआ है. ये सभी बाहर के मजदूर हैं जिन्हें काम मिला है. सीएम ने भरोसा दिलाया कि शहर के मजदूरों को भी रोजगार की कमी नहीं होगी. आप आवेदन दें, रोजगार सरकार मुहैया करायेगी. कोई भी भूखा नहीं रहेगा. मुख्यमंत्री श्रमिक योजना का क्रियान्वयन झारखण्ड राज्य के सभी 51 नगर निकायों में किया जा रहा है, जिसके तहत राज्य के शहरी क्षेत्रों में निवास करने वाले गरीब परिवारों को गारंटीयुक्त 100 दिन का रोजगार उपलब्ध कराया जा रहा है. हमारी राज्य की महिलाएं दूसरे राज्यों में बंधक बनाकर रखी गयी थी, सभी को सरकार ने मुक्त करवाया है. अब राज्य सरकार उनके लिए झारखंड में ही रोजगार का प्लान तैयार कर रही है. अब राज्य की महिलाएं रोजगार के लिए बाहर नहीं जाएँगी.

कोरोना महामारी से लड़ते हुए राज्य को संवार रहे

कोरोना को लेकर लम्बे वक्त तक बाबा बैद्यनाथ मंदिर बंद रखने पर मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने कहा कि कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए मजबूरी में बाबा मंदिर को बंद रखना पड़ा है. धीरे-धीरे खोला जा रहा है. बगैर केंद्र के सहयोग से हम कोरोना महामारी से लड़ते हुए राज्य को संवार रहे हैं. आखिर में देवघर की जनता से मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना को हल्के में न लें. सावधानी और सतर्कता बरतें, गाइडलाइन का पालन करें और कोरोना से जंग और झारखंड के विकास में साथ दें. यह ऐसी बीमारी है जिसका न तो  इलाज है और न ही पहचान है. एक ही इलाज है सोशल डिस्टैंसिंग,मास्क, सैनिटाइजर और लगातार हैंड वाश. उन्होंने कहा कोरोना से डरने की जरूरत नहीं है, बस सावधान व सतर्क रहने की जरूरत है। एहतियात बरतते हुए स्वयं को एवं अपने परिवार को सुरक्षित रखें। 

आज का दिन देवघर वासियों के लिए कई मायनों में खास

कार्यक्रम के तहत मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन द्वारा 21.12 करोड़ की लागत से बने नव निर्मित नगर निगम भवन का उद्घाटन कर भवन का निरीक्षण कर पूर्ण हो चुके कार्यों से अवगत हुए। साथ हीं मुख्यमंत्री श्रमिक योजना के तहत जाॅब कार्ड का वितरण और पीएम स्वनिधि योजना के तहत ऋण का वितरण लाभुकों के बीच मुख्यमंत्री द्वारा किया गया। इस अवसर पर मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने कहा कि बहुत दिनों के बाद आज इस कोरोना संक्रमण काल में बाबा बैद्यनाथ की नगरी देवघर आने का मौका मिला है। आज का दिन देवघर वासियों के लिए कई मायनों में खास है। आप सभी की सुविधा के लिए भव्य नगर निगम कार्यालय का उद्घाटन करने का मौका मिला है। साथ हीं बाबा नगरी के लिए देवघर शहरी जलापूर्ति परियोजना का शिलान्यास भी किया गया है। देवघर शहर झारखण्ड राज्य की सांस्कृतिक राजधानी भी है। ऐसे में देवघर शहर में पहले से चल रहे आंशिक जलापूर्ति को सुधार कर सभी 36 वार्डों के शतप्रतिशत घरों में जलापूर्ति योजना के लिए व्यापक योजना तैयार की गयी है। आने वाले समय में हमारे सरकार ने 2022 तक झारखण्ड के हर गांवों को पेयजल से जोड़ने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। 

कार्यक्रम के बाद मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने बाबा मंदिर पहुंचकर बाबा बैद्यनाथ का दर्शन भी किया।


नमन





रिलेटेड पोस्ट