spot_img

इस राज्य में संदिग्ध आतंकी संबंधों के कारण ग्रामीणों ने स्वेच्छा से गिराया मदरसा

पश्चिमी असम के गोलपारा जिले (Goalpara district of western Assam) के पखिउरा चार के ग्रामीणों ने मंगलवार को एक निजी मदरसे को ध्वस्त कर दिया।

Guwahati: पश्चिमी असम के गोलपारा जिले (Goalpara district of western Assam) के पखिउरा चार के ग्रामीणों ने मंगलवार को एक निजी मदरसे को ध्वस्त कर दिया। इस मदरसे में जिहादी आतंकी संगठनों से नाता रखने वाले दो संदिग्ध बांग्लादेशी नागरिकों को नौकरी पर रखा गया था। पुलिस अधिकारियों ने यह जानकारी दी है।

असम पुलिस के एक प्रवक्ता ने कहा कि पखिउरा चार (दारोगर अलगा) के स्थानीय लोगों ने स्वेच्छा से मदरसा और उससे सटे निवास (मदरसा) को ध्वस्त कर दिया। इसका इस्तेमाल आतंकी समूह से संबंध रखने वाले दो संदिग्ध बांग्लादेशी नागरिकों द्वारा किया गया था।

प्रवक्ता ने कहा, “जिहादी गतिविधियों के प्रति आक्रोश के बाद स्थानीय लोगों ने मदरसे और आसपास के आवास को खुद ही तोड़ दिया। आवास में अमीनुल इस्लाम उर्फ उस्मान उर्फ मेहदी हसन और जहांगीर आलम रह रहे थे।”

अमीनुल और जहांगीर, दोनों भारतीय उपमहाद्वीप में अल-कायदा और बांग्लादेश स्थित आतंकवादी संगठन अंसारुल बांग्ला टीम के फरार कैडर हैं। पुलिस ने कहा कि जलालुद्दीन शेख, जिसे हाल ही में उसके आतंकी संबंधों के लिए गिरफ्तार किया गया था, उसने अमीनुल और जहांगीर को 2020 से 2022 के दौरान अलग-अलग समय पर इस पखिउरा चार मदरसे के शिक्षकों के रूप में नियुक्त किया था।

असम में यह पहला ऐसा उदाहरण है कि स्थानीय लोगों ने स्वेच्छा से एक इस्लामी शिक्षण संस्थान को ध्वस्त कर दिया, जिसका कथित तौर पर ‘भारत विरोधी आतंकवादी समूहों’ द्वारा दुरुपयोग किया गया है।

पुलिस प्रमुख ने कहा कि जल्द ही एक वेब पोर्टल शुरू किया जाएगा और मदरसा पदाधिकारियों को मदरसे के बारे में विवरण, उनके स्थान, प्राधिकरण प्रमाण पत्र, शिक्षकों के नाम और पते, छात्रों की संख्या और अन्य प्रासंगिक जानकारी अनिवार्य रूप से अपलोड करनी होगी।

असम पुलिस प्रमुख ने रविवार को मुस्लिम संगठनों और मदरसों के बोर्ड के साथ बैठक की और राज्य के बाहर से शिक्षकों (इमामों) को नियुक्त करते समय सतर्कता बनाए रखने और प्रक्रियाओं का पालन करने और पहचान सहित आवश्यक विवरणों को सत्यापित करने का आग्रह किया।

भारतीय उपमहाद्वीप में अल-कायदा और अंसारुल बांग्ला टीम के साथ कथित संबंधों के लिए असम में एक महीने से भी कम समय में 37 जिहादी कैडरों की गिरफ्तारी के बाद यह निर्देश आया है।

Leave a Reply

Hot Topics

Related Articles

Don`t copy text!