Global Statistics

All countries
244,133,259
Confirmed
Updated on Sunday, 24 October 2021, 11:25:07 am IST 11:25 am
All countries
219,476,467
Recovered
Updated on Sunday, 24 October 2021, 11:25:07 am IST 11:25 am
All countries
4,959,628
Deaths
Updated on Sunday, 24 October 2021, 11:25:07 am IST 11:25 am

Global Statistics

All countries
244,133,259
Confirmed
Updated on Sunday, 24 October 2021, 11:25:07 am IST 11:25 am
All countries
219,476,467
Recovered
Updated on Sunday, 24 October 2021, 11:25:07 am IST 11:25 am
All countries
4,959,628
Deaths
Updated on Sunday, 24 October 2021, 11:25:07 am IST 11:25 am
spot_imgspot_img

तस्करों के चंगुल से मुक्त कराकर झारखंड लाई गई बच्चियों से सीएम हेमंत ने की मुलाकात

Lg


रांची। 

सूबे के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने शनिवार को अपने आवास पर तस्करों के चंगुल से मुक्त कराकर झारखंड लाई गई बच्चियों से मुलाकात की। 44 बच्चों को दिल्ली से एयरलिफ्ट करा के झारखंड लाया गया है। इनमें ज्यादातर बच्चियों को तस्करों ने झारखंड से दिल्ली ले जाकर बेच दिया था, जहां इनसे दाई का काम कराया जाता था। 

मुलाकात के दौरान बच्चियों ने मुख्यमंत्री से कहा कि वे अब वापस घर नहीं जाना चाहती हैं। घर जाएंगे तब गरीबी और नक्सली उनका शोषण करेंगे। बाहर रहे तब तस्कर। मुख्यमंत्री ने कहा कि अब आपको घबराने की कोई जरूरत नहीं है। आपका भाई सरकार चला रहा है। आपका पूरा ख्याल रखा जाएगा।

बीकानेर

इस दौरान बच्चों को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने कहा कि जो बच्चे अभी नाबालिग हैं उन्हें बालिग होने तक प्रति माह दो हजार रुपए दिए जाएंगे। ऐसे बच्चे जो बालिग हो गए हैं उन्हें सरकार की तरफ से काम दिया जाएगा। इस दौरान मुख्यमंत्री ने कहा कि उन्होंने गरीबी देखी है, गांव देखे हैं, खेती देखी है और गरीबी को पीड़ा को अच्छे से समझते हैं उन्होंने कहा कि जो बच्चे पढ़ना चाहते हैं उन्हें आगे की शिक्षा देने में सरकार मदद करेगी और जो बच्चे काम करना या घर जाना चाहते हैं उन्हें सरकार घर तक पहुंचाएगी।

एस्ट्रो

झारखंड के अलग-अलग जिलों से तस्करी कर दिल्ली एनसीआर में बेचे गए 66 बच्चों को विभिन्न तस्करों से मुक्त कराया गया था। ये बच्चे पिछले एक साल से ज्यादा समय से दिल्ली के विभिन्न बालगृह में रह रहे थे। राज्य सरकार की मदद से फिलहाल 44 बच्चों को दिल्ली से एयरलिफ्ट करा के झारखंड लाया गया है। सरकार अब इन बच्चों की काउंसिलिंग कर के इनकी इच्छा के मुताबिक इन्हें शिक्षा देने, घर पहुंचाने और रोजगार से जोड़ने का काम करेगी।


नमन

Leave a Reply

spot_img

Hot Topics

Related Articles

Don`t copy text!