Global Statistics

All countries
195,871,767
Confirmed
Updated on Wednesday, 28 July 2021, 3:21:55 am IST 3:21 am
All countries
175,792,403
Recovered
Updated on Wednesday, 28 July 2021, 3:21:55 am IST 3:21 am
All countries
4,191,464
Deaths
Updated on Wednesday, 28 July 2021, 3:21:55 am IST 3:21 am

Global Statistics

All countries
195,871,767
Confirmed
Updated on Wednesday, 28 July 2021, 3:21:55 am IST 3:21 am
All countries
175,792,403
Recovered
Updated on Wednesday, 28 July 2021, 3:21:55 am IST 3:21 am
All countries
4,191,464
Deaths
Updated on Wednesday, 28 July 2021, 3:21:55 am IST 3:21 am
spot_imgspot_img

युवती के साथ बरहेट थाना प्रभारी द्वारा मारपीट मामले में बाबुलाल ने सीएम को लिखा पत्र


रांची।

भाजपा विधायक दल के नेता सह पूर्व मुख्यमंत्री बाबुलाल मरांडी ने साहेबगंज जिला के बरहेट थाना प्रभारी हरीश पाठक द्वारा प्रेम प्रसंग के एक मामले में ग्राम बरहेट के संथाली इरकोण रोड निवासी एक लड़की के साथ बाल पकड़कर मारपीट व गाली-गलौज करने और सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र बरहेट परिसर स्थित निवासी लड़के की मां के साथ भी भद्दी-भद्दी गाली देने व उनके पति और बेटे को दौड़ाकर गोली मारने सहित कई प्रकार की धमकी देने के मामले को लेकर मुख्यमंत्री को पत्र लिखा है।

बाबुलाल मरांडी ने मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर आरोपित दारोगा को बर्खास्त कर जेल भेजने की मांग की है। वहीं उन्होंने बरहेट मुठभेड़ में इनकी संदिग्ध भूमिका की सी0बी0आई0 से जांच से कराने की मांग भो की है। उन्होंने कहा कि इससे संगीन व जघन्य अपराध नहीं हो सकता है। एक दारोगा द्वारा किसी महिला को इस प्रकार सरेआम मारपीट व गाली-गलौज करना अक्षम्य अपराध है। यह मुख्यमंत्री के विधानसभा क्षेत्र का भी मामला है। सरकार को तमाम सबूतों को देखते हुए दारोगा पर सख्त कार्रवाई करने की जरूरत है। ताकि इस प्रकार की घटना की पुर्नरावृति नहीं हो। 

लेटर

पीड़ित महिला के पति सह लड़के के पिता को 20 जुलाई से ही थाने में बंद करके रखा गया है। उनके साथ भी लगातार बेरहमी से मारपीट करने का आरोप परिजनों ने थाना प्रभारी पर लगाया है। थाना में बंद किए गए व्यक्ति से उक्त महिला या कोई अन्य रिश्तेदार जब भी मिलने जाते हैं तो इन्हें भगा दिया जाता है। साथ ही इनके पति और बेटे को दौड़ा कर गोली मारने की धमकी दी जाती है। दारोगा हरीश पाठक प्रारंभ से ही विवादित अधिकारी रहे हैं। जामताड़ा में भी एक अल्पसंख्यक युवक की कथित रूप से पिटाई से मौत का आरोप इनपर है, बकोरिया कांड में भी विवादों से ये परे नहीं हैं। बरहेट मुठभेड़ मामले में भी इनकी भूमिका संदिग्ध है और अब यह एक और जघन्य अपराध। बिना किसी ऊंचे राजनीतिक संरक्षण के लगातार इनके द्वारा इस प्रकार की घटना को अंजाम दिया जाना संभव नहीं लगता। ऐसे में झारखंड पुलिस से जांच की बात ही बेमानी है। इसलिए मामले की सी0बी0आई0 जांच ही एकमात्र विकल्प है।


नमन

Leave a Reply

Hot Topics

Related Articles

Don`t copy text!