Global Statistics

All countries
176,422,212
Confirmed
Updated on Sunday, 13 June 2021, 11:25:33 am IST 11:25 am
All countries
158,675,635
Recovered
Updated on Sunday, 13 June 2021, 11:25:33 am IST 11:25 am
All countries
3,810,863
Deaths
Updated on Sunday, 13 June 2021, 11:25:33 am IST 11:25 am

Global Statistics

All countries
176,422,212
Confirmed
Updated on Sunday, 13 June 2021, 11:25:33 am IST 11:25 am
All countries
158,675,635
Recovered
Updated on Sunday, 13 June 2021, 11:25:33 am IST 11:25 am
All countries
3,810,863
Deaths
Updated on Sunday, 13 June 2021, 11:25:33 am IST 11:25 am
spot_imgspot_img

बंद हो गया आर्कटिक के ऊपर ओजोन परत का छेद


नई दिल्ली।

एक महीने पहले आर्कटिक के ऊपर पाया गया ओजोन परत में छेद अब पूरी तरह से बंद हो गया है. पिछले महीने उत्तरी ध्रुव में आर्कटिक के ऊपर ओजोन परत में बड़ा छेद हो गया था. अब वह छेद बंद हो गया है. यह छेद कुछ दिनों पहले तक बहुत बड़ा हो गया था, जिसकी वजह से वैज्ञानिकों की चिंता बढ़ गई थी।

वैज्ञानिकों ने की पुष्टि

कॉपरनिकन एटमॉस्फियर ऑबजरवेशन सर्विस ने जानकारी दी है कि “2020 में उत्तरी गोलार्ध में बना ओजोन होल बंद हो गया है. यह कम तापमान के कारण मार्च में बने इस बड़े छेद ने वैज्ञानिकों में हड़कंप मचा दिया था. इसकी वजह से अप्रिय घटनाएं होने की भी आशंका जताई गई थी. लेकिन ऐसा कुछ होने से पहले ही यह छेद बंद हो गया. इस छेद ने पिछले महीने बहुत बड़ा आकार ले लिया था. वैज्ञानिकों को आशंका थी कि यह छेद दक्षिणी गोलार्ध तक जा सकता है, लेकिन ऐसा नहीं हुआ.ओजोन लेयर में छेद के कारण यहां गर्मी में इजाफे के साथ बर्फ पिघलने की रफ्तार में वृद्धि हो सकती थी.

कोरोना संकट के समय पर ही बना और बंद भी हुआ छेद

ओजोन परत में छेद ऐसे समय पर बना था जब पूरी दुनिया कोरोना संकट से जूझ रही थी. इस दौरान दुनिया भर में आर्थिक और औद्योगिक गतिविधियों सहित यातायात तक बंद हो गया था. कई लोगों को लगा कि इस वजह से जो वायु प्रदूषण में सुधार हुआ है, उससे यह छेद बंद हो सका. लेकिन वैज्ञानिकों ने इस तरह की दलीलों को खारिज कर इसका असली कारण बताया है.

कोरोना वायरस से नहीं है सम्बंध, ये है वजह

वैज्ञानिकों का मानना है कि कोरोना संकट के समय इस घटना का होना महज संयोग है. कोरोना वायरस की वजह से चल रह लॉक डाउन के कारण जो प्रदूषण में कमी आई है उसका भी इसके बंद होने से कोई संबंध नही हैं.
वैज्ञानिकों का मानना है कि इस छेद के बंद होने की वजह समतापमंडल का गरम होना है. अप्रैल महीने से उत्तरी ध्रुव का तापमान बढ़ना शुरू हो जाता है. इस कारण आर्कटिक के ऊपर की समतापमंडल परत भी गर्म होने लगी और ओजोन परत में ओजोन की मात्रा बढ़ने लगी यानी वह छेद बंद हो गया.

क्या है ओजोन परत

पृथ्वी के वायुमंडल में क्षोभमंडल और समतापमंडल के बीच 15 से 30 किलोमीटर में ओजोन की बहुतायात होती है जिसे ओजोन परत कहते हैं. यह सूर्य से आने वाली हानिकारक अल्ट्रावॉयलेट किरणों को रोक देती है. ओजोन परत में छेद का मतलब उस क्षेत्र में ओजोन की मात्रा बहुत ही कम हो जाना होता है.

Leave a Reply

Hot Topics

Related Articles