spot_img
spot_img

’’बेटा पढ़ले एक घर बनतो, बेटी पढ़ले संसार बनतो’’


देवघर।

देवघर के सभी अभिभावकों से उपायुक्त नैन्सी सहाय ने अपील की है …..

उपायुक्त नैन्सी सहाय ने देवघर जिला अंतर्गत सभी बेटियों के पालक माता-पिता से आग्रह करते हुए कहा है कि ’’बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओं’’ योजना पर बात शुरू करने के पूर्व सभी माता-पिता को हार्दिक अभिनन्दन करती हूं। बेटियां हमारी भारतीय संस्कृति में पूज्यनीय देवी तुल्य है। वैदिक संस्कृति में इस बात की स्वीकृति है- ’’यत्र नार्यस्तु पूज्यंते, रमन्ते तत्र देवता’’ जहां नारी, बेटियां, स्त्रीयों का सम्मान होता है। वहां देवताओं को वास होता है। अपने बेटी को जन्म पालन-पोषण, सुरक्षा, शिक्षा और संस्कार देकर इस समाज और देश में अप्रतिम योगदान दिया है। साथ ही आप सभी बेटियों के सार्वंगीन विकास और विकास के सर्वोत्तम शिखर में बेटियों का स्थान दिलाने, उसकी सुरक्षा, सम्मान, प्रतिष्ठा और प्रोत्साहन देकर अपनी महती जिम्मेवारी निभानी होगी। 
बेटियों की उज्जवल भविष्य के लिए राज्य और केन्द्र सरकार तत्पर है। झारखण्ड सरकार बेटियों के सर्वोत्तम हितार्थ आप सबों के साथ है। सरकार ने बेटियों के लिए कई योजनाएं चला रही है। यथा- मुख्यमंत्री कन्यादान योजना, तेजस्वनी योजना, मुख्यमंत्री सुकन्या योजना, किशोरी शक्ति योजना आदि। समाजिक शोषण, उत्पीड़न एवं घेरलू हिंसा से पीड़ित बेटियों के लिए जिले में समुचित सुरक्षा व्यवस्था है। जिसके लिए हेल्प लाईन नम्बर उपलब्ध है। घरेलू हिंसा से बचाव हेतु जिले के सभी बाल विकास परियोजना पदाधिकारी, संरक्षरण पदाधिकारी के रूप में घोषित है। उपर्युक्त योजनाएं का प्रयोग कर बेटियों की सुरक्षा, शिक्षा, विवाह एवं रोजगार उपलब्ध कराया जाय। आप यदि थोड़ा सजगता, जागरूकता और तत्परता दिखाएं तो बेटियां किसी के लिए भार नहीं बनेगी वह परिवार के खुशाहाली का आधार बनेगी। 
21वीं सदी की बेटियां किसी मायने में बेटों से कम नहीं है। विश्व मानस पटल पर अमिट छाप छोड़नेवाली बेटियों की गौरव गाथा से पूरी समसामायिकी भरी पड़ी है। जैसे कल्पना चावला (अंतरक्षी यात्री), सानियां मिर्जा (टेनिस), पीटी उषा (धाविका), साक्षी मालिक (महिला कुश्ती) दीपा कर्मकार (जिम्नास्टिक), एमसी मैरीकाॅम (मुक्केबाजी), चंदा कोचर (प्रबंधन), आदि स्वनाम धन्य पिता के आदर्श सुपुत्रियां है। इसलिए आप से अनुरोध है कि आप बेटियों को बराबरी का हक हौसला और अवसर देने के लिए आगे आएं। 
देशी कहावत है- ’’बेटा पढ़ले एक घर बनतो, बेटी पढ़ले संसार बनतो’’
अतः आप सभी से अनुरोध है कि बेटियों को उनके वाजिब मानवीय हक देने में आप सभी माता पिता व उनक परिजन सदैव तत्पर रहेंगे।


नमन

Leave a Reply

Hot Topics

Related Articles

Don`t copy text!