spot_img

राजनीतिक दांव आजमाइश का अखाड़ा बना जरमुंडी, क्या बाहरी को पसंद करेगी जनता

Reported By: अजय झा

दुमका।

झारखंड का जरमुंडी विधानसभा मानो राजनीतिक दांव आजमाइश का अखाड़ा बन गया हो। यहां स्थानीय तो हैं ही , कई बाहरी लोग भी यहां से विधायक बनने की होड़ में लगे हैं।

सोमवार को नामांकन करने वालों में कई बाहरी नेता भी थे। इनमे झाविमो के डॉ संजय, लोजपा के वीरेंद्र प्रधान, बीएसपी के संजयानंद झा, समता की बबिता राव पटेल शामिल हैं। डॉ संजय देवघर के चिकित्सक हैं। गोड्डा लोकसभा से भी चुनाव लड़ चुके हैं। अब जरमुंडी से अपनी किस्मत आजमा रहे। हालांकि नामांकन के दौरान इनके साथ आने वाले शुभचिंतकों में देवघर के लोग कम दिखे।

वहीं बीएसपी से चुनाव लड़ने वाले संजयानंद झा ने भी पर्चा दाखिल किया जो देवघर के रहने वाले हैं और वहां के पंडा समाज से संबंध रखते हैं। जिनके  नामांकन के दौरान साथ आने वालों में देवघर के लोग ज्यादा दिखे। भीड़ में भी देवघर के चेहरे ज्यादा थे। ये पहले भी यहां से भाग्य आजमाने की कोशिश कर चुके हैं। पिछली बार झाविमो ने 2014 में इनका टिकट काटकर देवेन्द्र कुंवर को दे दिया था। इस बार भी भाजपा ने इनका पत्ता काट दिया और देवेन्द्र कुंवर को ही टिकट दे दिया। इसके बाद मायावती की पार्टी बसपा से टिकट लिया इन्होंने। इसबार ये क्या करेंगे ये समय के गर्भ मे है।

समता पार्टी से टिकट लेने वाली बबिता राव पटेल के साथ कोई भीड़ नही थी। इनके साथ इनके पति जयंत राव पटेल पहुंचे थे नामांकन करने। ये 15 साल से जदयू से टिकट लेने की जुगत में थे। लेकिन टिकट नही मिला तो 2 दिन पहले ही इन्होंने पार्टी छोड़ दी और समता में आ गए। ये मूल रूप से देवघर के ही रहने वाली हैं।

वीरेंद्र प्रधान लोजपा की टिकट पर चुनाव मैदान में हैं। ये मूल रूप से बिहार के रहने वाले हैं। झारखंड में इनका बड़ा कारोबार है। ये जब नामांकन करने पहुंचे थे तो इनके साथ ज्यादातर लोग देवघर और बिहार, यूपी के थे। इनके साथ सांसद सूरजभान और चंदन सिंह भी पहुंचे थे। तो जाहिर सी बात है उनके साथ भी बड़ी संख्या में उनके समर्थक भी होंगे। लोजपा की सभा मे लोकल लोगों की भीड़ कम देखी गई। 

*क्या बाहरी को पसंद करेगी जनता

बाहरी नेताओं की बड़ी जमात है जरमुंडी विधानसभा में। सवाल उठता है क्या यहां की जनता इन बाहरी नेताओं को पसंद करेंगी। क्योंकि इस विधानसभा से अबतक जो भी विधायक बने सभी इसी इलाके से ताल्लुक रखने वाले थे।

Leave a Reply

Hot Topics

Related Articles

Don`t copy text!