Global Statistics

All countries
267,480,680
Confirmed
Updated on Wednesday, 8 December 2021, 2:55:32 pm IST 2:55 pm
All countries
239,180,342
Recovered
Updated on Wednesday, 8 December 2021, 2:55:32 pm IST 2:55 pm
All countries
5,289,062
Deaths
Updated on Wednesday, 8 December 2021, 2:55:32 pm IST 2:55 pm

Global Statistics

All countries
267,480,680
Confirmed
Updated on Wednesday, 8 December 2021, 2:55:32 pm IST 2:55 pm
All countries
239,180,342
Recovered
Updated on Wednesday, 8 December 2021, 2:55:32 pm IST 2:55 pm
All countries
5,289,062
Deaths
Updated on Wednesday, 8 December 2021, 2:55:32 pm IST 2:55 pm
spot_imgspot_img

संचार मंत्री के करकमलों से पुरस्कृत हुए डॉ. प्रदीप


देवघर। 

पिछले सत्र 2018-19 को भारतीय डाक विभाग द्वारा अखिल भारतीय पत्र लेखन प्रतियोगिता का आयोजन "ढाई आखर पत्र लेखन अभियान" के अंर्तगत सम्पूर्ण देश मे किया गया था, जिसमें नौ लाख से अधिक व्यक्तियों की भागीदारी हुई थी। 

प्रतियोगिता का विषय 'मेरे देश के नाम खत' निर्धारित किया गया था। प्रतियोगिता सभी उम्र के नागरिकों के लिए रखी गई थी, जिसमें 18 वर्ष तक तथा 18 वर्ष से ऊपर की दो श्रेणियां रखी गई थी। इन दो श्रेणियों में अंतरदेशीय पत्र पांच सौ शब्दों में एवं लिफाफे में एक हजार शब्दों की दो उप श्रेणियां रखी गई थी। पत्र अंग्रेजी, हिन्दी या क्षेत्रीय भाषा में मेरे देश के नाम खत विषय पर भेजना था।

अपने शहर के विवेकानंद शैक्षणिक, सांस्कृतिक एवं क्रीड़ा संस्थान के केंद्रीय अध्यक्ष सह साइंस एंड मैथेमेटिक्स डेवलपमेंट आर्गेनाईजेशन के राष्ट्रीय सचिव डॉ. प्रदीप कुमार सिंह देव को अपने ग्रुप में प्रथम स्थान प्राप्त हुआ था। अखिल भारतीय स्तर के प्रथम पुरस्कार स्वरूप डॉ. प्रदीप को राष्ट्रीय डाक सप्ताह कार्यक्रम के अंतर्गत, राष्ट्र के संचार एवं सूचना प्रोद्योगिकी मंत्री रविशंकर प्रसाद के करकमलों से नई दिल्ली स्थित विज्ञान भवन में प्रशस्ति पत्र एवं 50 हजार नकद राशि प्रदान किया गया।

कई पुस्तकों के लेखक एवं भारत गौरव, स्वामी विवेकानंद राष्ट्रीय शिखर सम्मान, विद्यावारिधि, विद्यासागर, वाग्देवी अंतर्राष्ट्रीय सम्मान, चित्रकला शिरोमणि, काव्यदीप, संत तुलसीदास सहित दर्जनों पुरस्कार विजेता डॉ. प्रदीप का जन्म भले ही कोलकाता में हुआ था, परन्तु उनकी पढ़ाई देवघर दीनबन्धु मध्य विद्यालय से शुरू हुई एवं पूरा कर्मजीवन इसी शहर से जुड़ा हुआ है। छातना राजगढ़ एवं काशीपुर पँचकोट राजबाड़ी के वंशज डॉ. देव मॉडल इंस्टीट्यूट ऑफ फिल्म एंड फाइन आर्ट्स, कोलकाता के छात्र रह चुके हैं।

रूबी फिल्म्स के बैनर तले डॉक्यूमेंट्री फिल्म'महासंग्राम' में अपनी अदा से सबको अभिभूत करने वाले डॉ. देव को चित्रांकन, कवितापाठ एवं नाटक के क्षेत्र में सर्व भारतीय स्तर पर स्वर्ण पदक से अलंकृत किया जा चुका है। उनकी काव्य संकलन, आगरा के ताजमहल में लोकार्पित 'पारो की याद में' एवं इण्डिया गेट, नई दिल्ली में लोकार्पित 'आर्टिस्ट्स ऑफ द नेशन' काफी चर्चित है। डॉ. देव को आगामी दिनों में नई दिल्ली में आयोजित होने वाले समारोह में प्रशस्ति पत्र के साथ 50 हजार की राशि भी प्रदान की जाएगी। डॉ. देव ने कहा, 'यह पुरस्कार  बाबा बैद्यनाथ के साथ-साथ पूरे देवघरवासियों को समर्पित है । डॉ. देव द्वारा पूर्व में लिखित बांग्ला में 'बैद्यनाथ माहात्म्य' एवं हिन्दी में 'सबकी मनोकामना पूरी करते हैं दानी बाबा बैद्यनाथ' बाजार में उपलब्ध है।

डॉ. देव देवघरवासियों को आभार व्यक्त किये हैं जिन्होंने उन्हें स्नेह और श्रद्धा से सिंचित किया है। उन्हें विज्ञान प्रसार के राष्ट्रीय समन्वयक वैज्ञानिक डॉ. अरविंद सी. राणाडे, राँची से महाडाकपाल शशि शालिनी कुजूर, शांतनु आजाद, देवघर के मुख्य डाकपाल नरौने जी, प्रदीप कुमार घोष, पिंटू कुमार साह, देवघर जिला संस्कृति विकास परिषद के सचिव रामसेवक सिंह गुंजन, जिला प्राइवेट स्कूल एसोसिएशन के अध्यक्ष श्रीकांत झा, सचिव प्रेम कुमार, डॉ. नीतू अग्रवाल, गीता देवी डी ए वी पब्लिक स्कूल के प्राचार्य रमेश चन्द्र शर्मा, योगमाया मानवोत्थान ट्रस्ट के राष्ट्रीय अध्यक्ष ई. अंजनी कुमार मिश्रा, प्रगतिशील लेखक संघ, देवघर के अध्यक्ष प्रो. रामनन्दन सिंह सहित शहर के उनके सभी चहेते के साथ-साथ देश के हर कोने से शुभकामनाएं प्रेषित की है।

Leave a Reply

spot_img

Hot Topics

Related Articles

Don`t copy text!