spot_img

श्रावणी मेला 2019: श्रद्धालुओं के लिए 24 घंटे मुहैया कराई जाएगी स्वास्थ्य सुविधा


देवघर।

देवघर उपायुक्त राहुल कुमार सिन्हा की अध्यक्षता में समाहरणालय सभागार में स्वास्थ विभाग द्वारा किये जा रहे कार्यों केे अलावा आगामी राजकीय श्रावणी मेला, 2019 की तैयारियों से संबंधित समीक्षा बैठक आयोजित की गयी।

विभिन्न कार्यक्रमों की बिंदुवार समीक्षा कर सिविल सर्जन को निर्देश:

बैठक के दौरान उपायुक्त द्वारा स्वास्थ विभाग द्वारा चलाये जा रहे विभिन्न कार्यक्रमों की बिंदुवार समीक्षा कर सिविल सर्जन को आवश्यक दिशा-निर्देश दिया गया। इसके अलावे उन्होंने संबंधित सभी अधिकारियों को निदेशित किया कि स्वास्थ्य से संबंधित सभी सुविधाओं को और भी बेहतर किया जाय एवं सभी कार्यों को ससमय सम्पादित करें। इस दौरान उन्होंने स्वास्थ विभाग के सभी अधिकारियों व कर्मियों को सम्पूर्ण जिम्मेवारी के साथ कार्य करने की बात भी कही।  

►बैठक के दरम्यान उपायुक्त गर्भवती महिलाओं के पंजीकरण संख्या, ए0ए0एम0जी0 तथा स्वास्थ से जुड़े अन्य कार्यक्रमों की जांच प्रतिवेदन से जुड़ी विभिन्न जानकारियों से अवगत हुए। इस दौरान बतलाया गया कि देवघर जिला के अंतर्गत ए0एन0सी0 में गर्भवती महिलाओं के पंजीकरण के लिए अप्रैल माह में 3519 गर्भवती महिलाओं के पंजीयन का लक्ष्य निर्धारित किया गया था, जिसके विरूद्ध 89 प्रतिशत अर्थात 3125 महिलाएं पंजीकृत हुई। इसी प्रकार मई माह में 3519 गर्भवती महिलाओं के पंजीयन का लक्ष्य निर्धारित किया गया था, जिसके विरूद्ध 100 प्रतिशत अर्थात 3507 महिलाएं पंजीकृत हुई। इस प्रकार इन दोनों माह को मिलाकर निर्धारित लक्ष्य 7038 के विरूद्ध 94 प्रतिशत अर्थात 6632 का लक्ष्य प्राप्त किया गया। 

►इसके अलावे पी0डब्लू0 4 ए0एन0सी0 के तहत अप्रैल माह में 3519 का लक्ष्य निर्धारित किया गया था, जिसके विरूद्ध 70 प्रतिशत अर्थात 2451 का लक्ष्य प्राप्त किया गया। इसी प्रकार मई माह में निर्धारित लक्ष्य 3519 के विरूद्ध 62 प्रतिशत अर्थात 2199 का लक्ष्य प्राप्त किया गया। इस प्रकार इन दोनों माह को मिलाकर निर्धारित लक्ष्य 7038 के विरूद्ध 66 प्रतिशत अर्थात 4650 का लक्ष्य प्राप्त किया गया।

►इसी प्रकार संस्थागत प्रसव के तहत देवघर जिला के अंतर्गत अप्रैल माह में 3519 का लक्ष्य निर्धारित किया गया था, जिसके विरूद्ध 81 प्रतिशत अर्थात 2848 का लक्ष्य प्राप्त किया गया। इसी प्रकार मई माह में निर्धारित लक्ष्य 3519 के विरूद्ध 86 प्रतिशत अर्थात 3020 का लक्ष्य प्राप्त किया गया। इस प्रकार इन दोनों माह को मिलाकर निर्धारित लक्ष्य 7038 के विरूद्ध 83 प्रतिशत अर्थात 5868 का लक्ष्य प्राप्त किया गया। इसके अलावे सरकारी अस्पतालों में देवघर जिले में अप्रैल माह में 81, मई माह में 96 डिलिवरी हुई।  

श्रावणी मेला के दौरान रहेगी स्वास्थ्य व्यवस्था दुरुस्त:

उपायुक्त द्वारा जानकारी दी गई कि राजकीय श्रावणी मेला के दौरान कुल 28 स्वास्थ्य केन्द्र, 10 शय्या वाला 03 अस्थाई अस्पताल, मेला क्षेत्र के लिए 01 डायरियां रेस्पोंस टीम, मेला क्षेत्र के लिए 01 दुर्घटना राहत चिकित्सा दल, मेला क्षेत्र में ब्लीचिंग पाउडर, गैमेंक्सीन एवं चूना का चिड़काव के लिए 02 गठित दल, खाद्य अपमिश्रण के रोकथाम के लिए 02 खाद्य निरीक्षक दल, मेला क्षेत्र में मानक स्तरी के दवा की बिक्री के सुनिश्चित करने हेतु 02 औषधी निरीक्षक का दल, कावंरियों की चिकित्सा हेतु 04 चलंत एम्बूलेंस सेवा आदि की व्यवस्था की जायेगी। इसके अलावे राजकीय श्रावणी मेला के दौरान अन्य राज्यों से श्रद्धालुओं के साथ आये 0 से 5 वर्ष के बच्चों को पोलियों के खुराक के लिए 2 टीमों का गठन भी किया गया है। 

अस्थाई अस्पताल संचालित रहेंगे:

साथ हीं बतलाया गया कि मेला क्षेत्र में पूरे माह चैंबिसों घंटे चिकित्सा हेतु अस्थाई अस्पताल संचालित रहेंगे, जिनके नाम क्रमशः अस्थाई अस्पताल, दुम्मा (10 बेड), मेला स्वास्थ केन्द्र, नवाडीह (कलकतिया धर्मशाला), मेला स्वास्थ केन्द्र, बांक, मेला स्वास्थ केन्द्र, सरासनी (5 बेड), मेला स्वास्थ केन्द्र, खिजूरिया, मेला स्वास्थ केन्द्र, नंदन पहाड़ (5 बेड), अस्थाई अस्पताल, बी0एड0 काॅलेज (10 बेड), मेला स्वास्थ केन्द्र, रेलवे स्टेशन जसीडीह, मेला स्वास्थ्य केन्द्र, बाबा मंदिर (02 बेड), मेला स्वास्थ्य केन्द्र, मानसरोवर, मेला स्वास्थ केन्द्र, शिवगंगा (नेहरू पार्क) में 10 बेड, पूराना सदर अस्पताल, देवघर (20 बेड), मेला स्वास्थ केन्द्र जलसार, मेला स्वास्थ केन्द्र सोमनाथ भवन, क्यू काॅम्पलेक्स में 02 बेड, बाघमारा बस स्टैंड में 05 बेड, हथगढ़ प्राईवेट बस स्टैंड में 05 बेड, नया सदर अस्पताल व मेला स्वास्थ केन्द्र सुविधा केन्द्र (5 बेड) हैं। साथ हीं इन सभी स्वास्थ केन्द्रोें पर चिकित्सक, पारा मेडिकल स्टाफ, ऑक्सीजन सिलेंडर, दवा एवं एम्बूलेंस की भी पर्याप्त मात्रा में व्यवस्था रहेगी। 

भीड़-भाड़ वालों स्थानों पर एम्बूलेंस रहेंगे मौजूद :

भीड़-भाड़ वालों स्थानों पर एम्बूलेंस भी मौजूद रहेंगे, ताकि आवश्यकतानुसार आपातकालिन चिकित्सा हेतु मरीजों को सदर अस्पताल सहित उच्च स्तरीय चिकित्सा संस्थान में अविलंब पहुँचाया जा सके। इसके लिए सदर अस्पताल देवघर में 4 एम्बूलेंस, बाबा मंदिर में 2 एम्बूलेंस, दुम्मा में 2 एम्बूलेंस, नवाडीह में 1 एम्बूलेंस, बांक में 1 एम्बूलेंस, सरासनी में 1 एम्बूलेंस, खिजूरिया में 1 एम्बूलेंस, नंदन पहाड़ में 2 एम्बूलेंस, बीएड काॅलेज में 2 एम्बूलेंस, रेलवे स्टेशन जसीडीह में 2 एम्बूलेंस, मानसरोवर तट में 2 एम्बूलेंस, बरमसिया चैक में 1 एम्बूलेंस, भूरभूरा मैदान में 1 एम्बूलेंस, रूट लाईंनिंग में 5 एम्बूलेंस, डायरिया रेस्पोंस टीम एवं दुर्घटना राहत दल के लिए 2 एम्बूलेंस एवं पुराना सदर अस्पताल, देवघर में 2 एम्बूलेंस उपलब्ध रहेंगे। इस प्रकार मेला क्षेत्र मेें कुल 31 एम्बूलेंस की सेवा ली जायेगी। 

स्वास्थ्य कार्यक्रम की उपलब्धियों की सूचना भी तीर्थयात्रियों को दी जायेगी:

राजकीय श्रावणी मेला, 2019 के दरम्यान मेला क्षेत्र में स्वास्थ्य उपकेन्द्र, चंलत दल आदि के माध्यम से पूरे सावन माह तक समस्त राष्ट्रीय स्वास्थ्य कार्यक्रम सहित डायरिया की रोकथाम के लिए आई0ई0सी0 गतिविधियां भी संचालित की जायेगी। साथ हीं मेला के दौरान प्रमुख स्थानों पर बैनर, पोस्टर, होर्डिंग आदि के माध्यम से स्वास्थ्य कार्यक्रम की उपलब्धियों की सूचना भी तीर्थयात्रियों को दी जायेगी। साथ हीं स्थानीय केबल आॅपरेटर के माध्यम से पूरे सावन माह में स्वास्थ्य विभाग की ओर से श्रद्धालुओं का अभिनंदन सहित उन्हें आवश्यक सावधानियां बरतने से संबंधित भी कार्यक्रम का प्रचार-प्रसार टेलीविजन के द्वारा किया जायेगा।

जुलाई माह को डेंगु रोधी माह के रूप में मनाया जायेगा:

इसके अलावे उपायुक्त राहुल कुमार सिन्हा ने जानकारी दी कि जुलाई माह को डेंगु रोधी माह के रूप में मनाया जायेगा। इसके अलावे उन्होेंने कहा कि शहरी एवं अर्धशहरी क्षेत्रों में डेंगु के ज्यादा प्रकोप देखे जाते है। इसके तहत डेंगु फैलाने वाले एडिस मच्छरों के प्रजनन स्थल की अनभिज्ञता एवं लापरवाही के कारण हम स्वयं अपने घर तथा बाहर इनके वृद्धि के लिए अनुकूल वातावरण तैयार कर देते है। इस अनभिज्ञता एवं लापरवाही के प्रति निरंतर सजगता अभियान चलाने की आवश्यता है। इस डेंगु रोधी कार्यक्रम के तहत सभी विद्यालयों में जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन किया जायेगा। साथ हीं होर्डिंग, बैनर, पोस्टर के माध्यम से भी प्रचार-प्रसार किया जायेगा।  

बैठक में उपरोक्त के अलावे सिविल सर्जन, समाज कल्याण पदाधिकारी, उपाधीक्षक सदर अस्पताल, प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी एवं संबंधित विभाग के विभिन्न अधिकारी आदि उपस्थित थे।                              

Leave a Reply

Hot Topics

Related Articles

Don`t copy text!