spot_img

ये हैं धनबाद की ‘लेडी सिंघम’,बीजेपी नेता के बेटे को किया अरेस्ट,धनबाद बीजेपी में बवाल  

Reported by: बिपिन कुमार  

धनबाद।

धनबाद के लेडी सिंघम के आगे बेबस नजर आ रहे बीजेपी नेता और उनके पुत्र। जी हां सरायढेला थाना में एएसआई के पद पर स्थापित ममता कुमारी को अब धनबाद के लोग लेडी सिंघम के नाम से पुकारने लगे है. क्योंकि उसने बिना डरे न सिर्फ नेता पुत्र को गिरफ्तार किया बल्कि बांड पेपर पर उसे छोड़ने पर उसने अपना ईस्तीफा तक दे दिया। हालांकि मामला तूल पकड़ने के बाद फिर से बीजेपी नेता पुत्र को गिरफ्तार कल जेल भेज दिया गया है। 

सरायढेला थाना में तैनात हैं लेडी सिंघम: 

सरायढेला में पुलिस ने वाहन चेकिंग लगाई थी. इस दौरान पुलिस कागजात और हेलमेट चेक कर रही थी. तभी बीजेपी नेता दिलीप सिंह का पुत्र और भतीजा सूरज व रवि मोटरसाकिल पर सवार होकर जा रहा था. जांच के दौरान मौजूद महिला एएसआई ममता कुमारी ने जब कागजात की मांग की तो नेता पुत्र बिफर गए और मामला गरमा गया. जिसके बाद नेता पुत्र ने अपने पिता व अन्य साथियों को बुला लिया। वही महिला पुलिस भी अड़ गई. ममता कुमारी का आरोप है कि उसने कागजात मांगने पर बदतमीजी की और नेता गिरी का रॉब झड़ते हुए गोली मारने की धमकी दी. जिसके बाद दोनों युवक को गिरफ्तार कर लिया गया. हालांकि कुछ देर बाद ही थाने पर बीजेपी नेताओं की जमघट लगने लगी और युवक को छोड़ने का दवाब बनाने लगा, महिला पुलिस ने सूरज व रवि के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया और जेल भेजने की तैयारी करने लगी. लेकिन पुलिस अधिकारी के दवाब के बाद उसे पीआर बांड भरकर थाने से ही छोड़ दिया गया. जिसके बाद महिला एएसआई ने अपना ईस्तीफा भेजकर नेताओ की नींद उड़ा दी. इतना ही नही ममता ने गिरफ्तारी की मांग को लेकर वर्दी न पहनने की कसम खा ली. 

जांच के बाद किया फिर गिरफ्तार: 

युवक के रिहाई के बाद पुलिस बनाम बीजेपी हो गई और मामले में एएसपी ने जांच के आदेश दिए और फिर 24 घण्टे के बाद दोबारा पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। धनबाद एसएसपी ने कहा कि जांच के दौरान जो शिकायते मिली थी. उसमें सत्यता पाई गई। वही महिला एएसआई का ईस्तीफा स्वीकार नही किया गया है. कानून सबके लिए बराबर है। 

बीजेपी कार्यकर्त्ता ने प्रशासन को दिया अल्टीमेटम:  

युवक के दोबारा गिरफ्तारी और जेल जाने के बाद अब बीजेपी के कार्यकर्ता बगावत पर उतर आए है कार्यकर्त्ताओ ने बीजेपी दफ्तर में देर रात ताला मार दिया और युवक की रिहाई के साथ ममता कुमारी के तबादले की मांग कर रही हों साथ ही कार्यकर्ताओ का कहना है कि मामले की न्यायीक जांच हो वही दोनों की गिरफ़्तारी के बाद धनबाद में छात्रों ने भी मोर्चा खोल दिया है छात्रों का कहना है निर्दोष दोनों छात्रों को प्रशासन जल्द छोड़े अनंथा हम सड़क पर उतर आंदोलन करेंगे। 

बीजेपी कार्यालय में कार्यकर्त्ता ने किया ताला बंदी: 

जिला अध्यक्ष चन्द्रशेखर सिंह से इस संबंध में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि मुझे इसकी जानकारी नही है। साथ ही उन्होंने कहा कि यदि ऐसा हुआ भी है तो बीजेपी कार्यकर्ताओं का आक्रोश लाजिमी भी है। क्योंकि जिन दोनो युवकों को पुलिस ने थाने में 24 घंटे रखने के बाद उसे छोड़ा और फिर आज पुलिस उन्हें गिरफ्तार कर जेल भेजा है, पुलिस की इस तरह की कार्रवाई से कार्यकर्ता आक्रोशित होंगे ही। उन्होंने कहा कि तालाबंदी करने वाले कार्यकर्ताओं के खिलाफ पार्टी की ओर से कोई कार्रवाई नही की जाएगी। बल्कि उन्हें समझाने की कोशिश की जाएगी।

Leave a Reply

Hot Topics

Related Articles

Don`t copy text!