Global Statistics

All countries
262,127,636
Confirmed
Updated on Tuesday, 30 November 2021, 1:35:38 am IST 1:35 am
All countries
234,935,056
Recovered
Updated on Tuesday, 30 November 2021, 1:35:38 am IST 1:35 am
All countries
5,221,412
Deaths
Updated on Tuesday, 30 November 2021, 1:35:38 am IST 1:35 am

Global Statistics

All countries
262,127,636
Confirmed
Updated on Tuesday, 30 November 2021, 1:35:38 am IST 1:35 am
All countries
234,935,056
Recovered
Updated on Tuesday, 30 November 2021, 1:35:38 am IST 1:35 am
All countries
5,221,412
Deaths
Updated on Tuesday, 30 November 2021, 1:35:38 am IST 1:35 am
spot_imgspot_img

देवघर: ज्ञानसेतु कार्यक्रम की शुरुआत, लर्निंग गैप में आएगी कमी 

Reported by: राजकुमार 

देवघर।

झारखंड शिक्षा परियोजना समग्र शिक्षा अभियान देवघर के तत्वाधान में ज्ञानसेतु कार्यक्रम का विद्यालय स्तर पर शुभारंभ जिले के राजकीयकृत मध्य विद्यालय बालक जसीडीह प्रांगण से किया गया.

कार्यक्रम की शुरूआत डीसी द्वारा दीप प्रज्वलित कर किया गया. मौके पर डीपीआरओ, डीडीओ, डीईओ, डीएसई, बीईईओ, बीपीओ, वार्ड पार्षद सहित कई विद्यालयों के शिक्षक और छात्र-छात्राओं के अभिवावक उपस्थित दिखे.

ज्ञानसेतु कार्यक्रम के संबंध में डीसी ने बताया कि ज्ञानसेतु कार्यक्रम का शुभारंभ आज से इस जिले में हो रहा है. यह भारत सरकार की बहुत ही महात्वाकांक्षी योजना है. एक कक्षा में सभी बच्चों का अधिगमन एक जैसा नहीं होता है. सभी के सीखने की क्षमता एक जैसी नहीं होती है. बच्चों में जो लर्निंग गैप होता है उसको पाटने के लिए ज्ञानसेतु कार्यक्रम है. ताकि जब बच्चे अगली कक्षा में जाऐं तो सभी बच्चों का स्तर एक जैसा रहे. बहुत ही सिस्टेमेटिक तरीके से लर्निंग गैप को कम करने के लिए सभी विषयों को लेकर एक एक्सट्रा क्लासेस चलाए जाऐंगें.

बच्चों को जिस विषय में कमजोरी हो रही है. उसे चिन्हित कर एक पार्टिकुलर ग्रुप में डाला जाएगा. हर एक ग्रुप के हर बच्चों को उस विषय से जुड़ा हुआ टास्कवर्ड दिया जाएगा। सिस्टेमेटिक तरीके से मोनेटरिंग होगा. एक अलग परीक्षा होगी. कोशिश की जाएगी कि सामान्य बच्चों के आलोक में उन बच्चों का भी स्तर आ जाए. ताकि बच्चे जब अगली कक्षा में जाऐं तो परीक्षाफल का अंतर कुछ जरूर हो जाए लेकिन पिछले कक्षा का ज्ञान बच्चों में एक सामान रहे. इससे सभी बच्चे एक जैसी मानसिकता के साथ पढ़ाई कर सकेंगें. ताकि किसी भी स्थिति में आगे जाकर ड्राॅप आउट की स्थिति नहीं रहे. ताकि जब सभी बच्चे मैट्रिक पास कर स्कूल से बाहर निकलें तो सभी का स्तर सम्मानजनक स्थिति में रहे.

Leave a Reply

spot_img

Hot Topics

Related Articles

Don`t copy text!