Global Statistics

All countries
264,557,547
Confirmed
Updated on Friday, 3 December 2021, 2:09:20 pm IST 2:09 pm
All countries
236,811,145
Recovered
Updated on Friday, 3 December 2021, 2:09:20 pm IST 2:09 pm
All countries
5,252,454
Deaths
Updated on Friday, 3 December 2021, 2:09:20 pm IST 2:09 pm

Global Statistics

All countries
264,557,547
Confirmed
Updated on Friday, 3 December 2021, 2:09:20 pm IST 2:09 pm
All countries
236,811,145
Recovered
Updated on Friday, 3 December 2021, 2:09:20 pm IST 2:09 pm
All countries
5,252,454
Deaths
Updated on Friday, 3 December 2021, 2:09:20 pm IST 2:09 pm
spot_imgspot_img

100 नंबर पर कॉल कर किसी ने कहा-छह माह से एक कमरे में कैद हैं भाई-बहन


बोकारो।

बोकारो पुलिस को 100 नंबर पर सूचना दी गयी कि को-ऑपरेटिव कॉलोनी के प्लॉट नंबर 229 में एक भाई-बहन को पिछले छह माह से कैद में रखा गया है.

सूचना मिलते ही सिटी थाना पुलिस मौके पर पहुंची और घर की तलाशी में दीपक कुमार घोष (54 वर्ष) और बहन मंजू श्री घोष उर्फ मिठू घोष को कमरे से निकाला गया. दोनो की मानसिक स्थिति ठीक नहीं थी. जहां भाई का एक पैर टूटा मिला। वहीं बहन की स्थिति भी ठीक नहीं दिखी. पुलिस ने पड़ोसियो व को-ऑपरेटिव सोसायटी कमिटि के अध्यक्ष की उपस्थिति मे दोनो को एंबुलेस से बोकारो जेनरल अस्पताल में भर्ती कराया.

बताया जा रहा है कि पूरे घर पर ईएनटी के चिकित्सक डा0 डी.के गुप्ता का कब्जा है औऱ इनपर ही यह आऱोप लग रहा है कि करोड़ो की संपत्ति हड़पने को लेकर अपने रिश्तेदार के माध्यम से यहां पर क्लिनिक औऱ नर्सिंग होम खोल रखा था.

मामले की जानकारी मिलते ही सिटी डीएसपी अजय कुमार और सिटी इंस्पेक्टर मदन मोहन प्रसाद मौके पर पहुंचे. पुलिस काफी देर तक दरवाजा खटखटाती रही और फिर सिटी थाना का एक अधिकारी गेट फांदकर अंदर घुसा तो चिकित्सक का एक नौकर मिला। जिसने डाक्टर के नहीं होने की बात कहीं. डीएसपी की माने तो पूरा मामला संदिग्ध है और दोनो भाई-बहन के ठीक होने के बाद ही जो बयान सामने आने पर कारवाई की बात कहीं.

बताते चले कि भाई दीपक कुमार घोष और बहन मंजू श्री घोष के पिता बीएसएल में थे और इन दोनो के माता-पिता की मृत्यु होने के बाद वर्ष 2001 में अपने घर को किराए के लिेए डा0 गु्प्ता को दिया था. लेकिन डा0 ने किराए में अपने एक रिश्तेदार मंतोष को आगे रखा था. कुछ साल के बाद मंतोष की मौत हो गयी थी औऱ फिर डाक्टर साहब मंतोष की बीबी को आगे कर अपना नर्सिंग होम चला रहे थे. जबकि मंतोष के नाम पर दवा दुकान उसी प्लाट के बाहर उसकी बीबी चला रही थी.

घर के बगल के पड़ोसी ने डाक्टर पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा कि मकान हड़पने की साजिश है. वहीं को-ऑपरेटिव सोसायटी के अध्यक्ष राजेश्वर सिंह भी कहते हैं कि लोगो से जानकारी मिली की घर में दोनो को बंधक बनाकर रखा गया है अब सोसायटी पूरे मामले की जाच करेगी. वहीं सिटी डीएसपी भी पूरे मामले को संदिग्ध मान रहे हैं और कह रहे है कि दोनो के ठीक होने के बाद जो बयान सामने आएगा दोषियों पर कानूनी कारवाई की जाएगी.

बताया जा रहा है कि मंजू श्री घोष संत जेवियर की छात्रा रही है और अंग्रेजी में एमए करने के बाद संत जेवियर स्कूल बोकारो में बहुत साल तक अपनी सेवाएं दी थी. अब तो जांच के बाद ही पता चल सकेगा की चिकित्सक की भूमिका इस मामले मे क्या है? लेकिन जिस तरह दोनो भाई बहन की बरामदगी हुई है उससे तो शक की सूई चिकित्सक पर भी घूमती नजर आ रही है.

Leave a Reply

spot_img

Hot Topics

Related Articles

Don`t copy text!