Global Statistics

All countries
200,672,639
Confirmed
Updated on Wednesday, 4 August 2021, 11:45:34 pm IST 11:45 pm
All countries
179,095,713
Recovered
Updated on Wednesday, 4 August 2021, 11:45:34 pm IST 11:45 pm
All countries
4,265,820
Deaths
Updated on Wednesday, 4 August 2021, 11:45:34 pm IST 11:45 pm

Global Statistics

All countries
200,672,639
Confirmed
Updated on Wednesday, 4 August 2021, 11:45:34 pm IST 11:45 pm
All countries
179,095,713
Recovered
Updated on Wednesday, 4 August 2021, 11:45:34 pm IST 11:45 pm
All countries
4,265,820
Deaths
Updated on Wednesday, 4 August 2021, 11:45:34 pm IST 11:45 pm
spot_imgspot_img

2019 के अंत तक हर घर पहुंचेगी बिजली, काम न करने वाले अधिकारी-कर्मचारी को काम से हटाएँ: CM


रांची:

सूबे के मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि इस साल के अंत तक झारखंड को जगमग करना है। हर घर तक बिजली पहुंचाने के लक्ष्य को किसी भी हाल में प्राप्त करना है। हो सके तो दीपावली तक यह लक्ष्य हासिल करें। गरीब के घर में बिजली पहुंचाने के लक्ष्य को पूरा करने में जो अधिकारी-कर्मचारी ठीक से काम नहीं कर रहे हैं, उन्हें नौकरी से हटायें। सरकार कुर्सी तोड़ने के लिए तनख्वाह नहीं देगी।

CM

यह सारी बातें उन्होंने झारखंड मंत्रालय स्थित सभागार में ऊर्जा विभाग की विभिन्न उपभोक्ता सेवाओं के शुरुआत और नियुक्ति पत्र वितरण के बाद लोगों को संबोधित करते हुए कहीं। उन्होंने कहा कि झारखंड को 2022 तक विकासशील से विकसित राज्य की श्रेणी में खड़ा करना है। बिजली के बिना विकास की परिकल्पना नहीं की जा सकती है।  24/7 बिजली हमारी प्राथमिकता में है। विभाग के सभी अधिकारी-कर्मचारी दिन-रात एक कर इसे पूरा करें।

मुख्यमंत्री ने कहा कि आज सरल, सुविधा, सक्षम और सशक्त ऑनलाइन सेवाओं की शुरुआत की गयी है। केवल शुरू करने से काम पूरा नहीं होगा। ये सेवाएं सही तरीके से काम करें, इसे सुनिश्चित करें। सचिव से लेकर हर अधिकारी, कर्मचारी तकनीक का प्रशिक्षण लें। विभाग के प्रोफेशनल तरीके से चलाना होगा। उपभोक्ताओं को इनका लाभ मिले। आइटी की मदद से बिचौलिये और भ्रष्टाचार को समाप्त किया जा सकता है। साथ ही जनता से सीधे जुड़ाव हो सकता है। इसका ज्यादा से ज्यादा उपयोग करें।

नियुक्ति

मुख्यमंत्री ने कहा कि आज बिजली विभाग के लिए महत्वपूर्ण दिन है। विभाग में 493 मैनपावर की नियुक्ति हुई है। इसमें सहायक ऑपरेटर में 41, जूनियर लाइनमैन में 215, स्वीच बोर्ड ऑपरेटर में 228 और फिटर में नौ लोगों की नियुक्ति हुई है। 2014 में पद संभालने के बाद से हमारी सरकार ने अब तक विभाग में 2000 नियुक्ति की है। आनेवाले समय में 2200 और नियुक्तियां की जानी है। मैनपावर की उपलब्धता से विभाग के काम में तेजी आयेगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि ऊर्जा मित्रों को झारखंड राज्य सहकारी बैंक के माध्यम से पॉस मशीन दी जा रही है। इससे उपभोक्ताओं को बिल पेमेंट में आसानी हो।

मुख्यमंत्री ने कहा कि बिजली की आधारभूत संरचना में भी राज्य काफी पीछे था। ग्रिड, सब स्टेशन, तार आदि की काफी कमी थी। हमारी सरकार ने इस पर तेजी से काम किया। आनेवाले दिनों में इसके नतीजे सामने आयेंगे। रांची में समेत अन्य शहरों में अंडरग्राउंड केबलिंग का काम किया जा रहा है। इससे लोगों को निर्बाध बिजली आपूर्ति करने में मदद मिलेगी। कोयला का भंडार होने के बाद भी झारखंड बिजली के मामले में काफी पिछड़ा हुआ है। अभी बिजली की जरूरत को पूरा करने के लिए हमें दूसरे राज्यों पर निर्भर रहना पड़ रहा है। 2021-22 तक हम झारखंड को पावर हब के रूप में विकसित करेंगे। इसी कड़ी में 4000 मेगावाट बिजली उत्पादन के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी प्लांट का शिलान्यास करेंगे। टीवीएनएल के एक्सटेंशन को भी सरकार ने मंजूरी प्रदान कर ही है। इससे 660 मेगावाट के दो प्लांट लगाये जायेंगे। इससे हम अपनी जरूरतों को पूरा करने के साथ बिजली दूसरे राज्यों को बेच सकेंगे।

ये सेवाएं हुईं लांच: 

सरल नाम से एक इंटरनेट आधारित माॅनिटरिंग टूल शुरू किया गया है। इसके माध्यम से निगम के अंतर्गत चल रही परियोजनाओं की रियल टाइम मॉनिटरिंग हो सकेगी। इसमें ट्रांसफर्मर रिपेयर, मेंटेनेंस, स्टोर इंवेंटरी आदि की जानकारी रहेगी।  इसमें उपभोक्ता ऑनलाइन बिजली कनेक्शन के लिए आवेदन दे सकेंगे। इसके साथ ही लोड परिवर्तन, नाम में सुधार आदि की सुविधा भी ऑनलाइन ही मिल जायेगी।

सशक्त उपभोक्ताओं की शिकायतों के त्वरित निष्पादन के लिए एकीकृत शिकायत निवारण व पर्यवेक्षण प्रणाली शुरू की गयी है। इसमें सिंगल विंडो के माध्यम से उपभोक्ताओं की शिकायतों का पंजीकरण व समाधान किया जायेगा। फेसबुक, ट्विटर समेत अन्य सोशल मीडिया के माध्यम से भी इसका उपयोग किया जा सकेगा। टॉल फ्री नंबर 1912, 1800-123-8745, 1800-345-6570 पर भी शिकायत दर्ज करायी जा सकती है।

कार्यक्रम में मुख्य सचिव सुधीर त्रिपाठी, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव डाॅ.सुनील कुमार वर्णवाल, ऊर्जा विभाग के प्रधान सचिव नितिन मदन कुलकर्णी, झारखंड बिजली वितरण निगम लिमिटेड के प्रबंध निदेशक राहुल पुरवार, झारखंड ऊर्जा संरचरण निगम लिमिटेड के प्रबंध निदेशक निरंजन कुमार, विभाग के वरीय विधि सलाहकार आर0के0 जुमनानी समेत बड़ी संख्या में लोग उपस्थित थे।

Leave a Reply

spot_img

Hot Topics

Related Articles

Don`t copy text!