spot_img

गोमिया और सिल्ली उपचुनाव में विपक्षी एकता की कवायद शुरू, बाबूलाल से मिले हेमंत


रांची:

झारखण्ड प्रदेश की दो विधानसभा सीटों पर 28 मई को उपचुनाव होना है. उप चुनाव को लेकर झारखण्ड मुक्ति मोर्चा के कार्यकारी अध्यक्ष हेमंत सोरेन ने झारखण्ड विकास मोर्चा के सुप्रीमों बाबूलाल मरांडी से मुलाकात की. आधे घंटे से ज़्यादा चली इस मुलाकात के दौरान सोरेन ने मरांडी से गोमिया और सिल्ली विधानसभा सीट के लिए सहयोग करने की अपील की है. 

विपक्षी दलों से मिल रहे हेमंत: 

बाबूलाल मरांडी से हुए मुलाकात के बाद हेमंत सोरेन ने कहा कि राज्य के जितने भी विपक्षी दल हैं उन सबके एक होने की योजना है. इसी के तहत वो सभी विपक्षी दल से मुलाकात कर रहे हैं. इसी क्रम में मंगलवार को वह बाबूलाल मरांडी से मिलने पहुंचे हैं.

विपक्षी दलों को होना होगा एकजुट: हेमंत 

हेमंत सोरेन ने कहा कि जिस तरह से राज्य और देश में बीजेपी कथित रूप से विपक्ष के अस्तित्व को समाप्त करने में लग गयी है उसका मुंहतोड़ जवाब देने के लिए विपक्षी दलों को भी एकजुट होना होगा. उन्होंने कहा कि राज्य में सत्तारूढ़ बीजेपी ने उनके सिल्ली और गोमिया विधायकों को राजनीतिक षड्यंत्र के तहत अयोग्य घोषित करवाया है.

बीजेपी को जवाब देने की तैयारी: 

हेमंत सोरेन ने कहा कि सिल्ली और गोमिया का उपचुनाव एक मौका है जब सभी विपक्षी दल एकजुट होकर एक मैसेज दे सकें. उन्होंने कहा कि यह वक्त बीजेपी को मुंहतोड़ जवाब देने का है. वो कांग्रेस के अलावे लेफ्ट और अन्य विपक्षी दलों के पास भी समर्थन के लिए प्रयासरत हैं. 

पार्टी फोरम पर लेंगे फैसला: बाबूलाल 

विपक्षी एकता पर पूछे सवाल ले जवाब में बाबूलाल मरांडी ने कहा की हेमंत सोरेन से बात हुई है लेकिन अंतिम फैसला वो अपने पार्टी के नेताओं से मिलकर करेंगे. उन्होंने कहा की इसपर फैसला होने के बाद वो हेमंत सोरेन को अवगत करा देंगे.

क्यों हो रहा उपचुनाव: 

प्रमुख विपक्षी दल झारखण्ड मुक्ति मोर्चा के दो विधायकों अमित महतो और योगेन्द्र महतो को झारखण्ड विधानसभा की सदस्यता से अयोग्य ठहराए जाने के बाद से दोनों सीट खाली है. सिल्ली के पूर्व विधायक अमित महतो को तत्कालीन सोनाहातु सीओ से मारपीट के एक मामले में रांची की एक अदालत से दो साल की सजा सुनाई थी. वहीँ गोमिया से झामुमो विधायक योगेन्द्र महतो को कोयला चोरी के एक मामले में रामगढ़ की अदालत ने तीन साल की सजा सुनाई है. उसके बाद से झारखण्ड विधानसभा स्पीकर दिनेश उरांव ने दोनों को सदन से अयोग्य ठहरा दिया.

चुनाव आयोग द्वारा 3 मई को अधिसूचना जारी की जाएगी। जिसके बाद से नामांकन भी शुरू हो जाएगा. दोनों सीटों के लिए 28 मई को मतदान होना है जबकि नतीजे 31 मई को आएंगे। 

Leave a Reply

Hot Topics

Related Articles

Don`t copy text!