spot_img
spot_img

MP Dr. Nishikant in Action Mode, अधिकारियों की लगी Class


देवघर/सारवांः

ग्राम स्वराज अभियान के तहत चयनित सारवां प्रखंड के डहुआ ग्राम में आयोजित सामाजिक न्याय दिवस कार्यक्रम में गोड्डा सांसद डाॅ0 निशिकांत दूबे ने शिरकत की. कार्यक्रम के दौरान सांसद न सिर्फ ग्रामीणों की समस्याओं से रूबरू हुए बल्कि अधिकारियों की कार्यशैली व लापरवाही पर नाराज़गी व्यक्त करते हुए जमकर फटकार भी लगायी. 

सांसद

नाराज़ हुए सांसदः 

सारवां प्रखंड के डहुआ पंचायत भवन परिसर में सामाजिक न्याय दिवस का आयोजन किया गया. कार्यक्रम में शामिल होने पहुंचे सांसद डाॅ0 निशिकांत दूबे का भव्य स्वागत किया गया. सांसद ने दीप प्रज्वलित कर कार्यक्रम की शुरूआत की. कार्यक्रम के शुरूआती दौर में तो सब ठीक-ठाक चल रहा था लेकिन सांसद की नाराज़गी उस वक्त बढ़ी जब ग्रामीणों से रूबरू होने के दौरान उन्हें यह पता चला कि जिन महत्वकांक्षी योजनाओं को केंद्र व राज्य सरकार जन-जन तक पहुंचाने के सपने देख रही, उन्हीं योजनाओं पर अधिकारी अपनी लापरवाही से पानी फेर रहे हैं. 

ग्रामीणों तक नहीं पहुंच रही योजनाएंः 

कार्यक्रम के दौरान सांसद उपस्थित ग्रामीणों से रूबरू हुए. एक-एक योजनाओं का नाम लिया और पुछा कि कौन-कौन सी योजनाओं का लाभ कितनों को मिल रहा है. जैसे ही सांसद ने गैस कनेक्शन, इंदिरा आवास, रोजगार जाॅब कार्ड, वृद्धा पेंशन, राशन कार्ड और स्वास्थ्य आदि कई कल्याणकारी योजनाओं का नाम लिया. ग्रामीणों की आवाज़ न में ही गुंजती चली गयी.

ग्रामीण

ग्रामीणों ने बताया कि कैसे उन्हें योजनाओं का लाभ लेने के लिए मशक्कत करनी पड़ रही और अगर जिसे लाभ मिला भी हो तो किसी तरह की परेशानी होने पर बस आवेदन पर आवेदन ही जमा लिया जाता है, कार्रवाई नहीं होती. फिर क्या था.. सांसद एक्शन मोड में आये.. उन्होंने तुरंत एक-एक कर संबंधित विभागों के अधिकारियों की खोज की. लेकिन दो-चार को छोड़ सभी अधिकारी कार्यक्रम से नदारद थे. 

सांसद ने दिया निलंबन का निदेशः 

सामाजिक न्याय दिवस के दौरान सारवां बीडीओ, सीओ, प्रखंड कृषि पदाधिकारी, पंचायत के बीएलडब्लू, पंचायत सेवक और रोजगार सेवक मौजूद थे. कार्यक्रम के दौरान ग्रामीणों की शिकायत के बाद जब सांसद डाॅ0 निशिकांत ने विभिन्न विभाग के अधिकारियों की तलाश की तो उक्त अधिकारियों को छोड़ सभी गायब थे. इसे देख सांसद बिफर उठे और तुरंत स्पष्टीकरण पुछे जाने का निर्देश दिया. ग्रामीणों द्वारा राशन कम मिलने की शिकायत पर सांसद न सिर्फ बिफरे बल्कि मौके पर एमओ के उपस्थित न होने पर तुरंत जिले के उपायुक्त को काॅल कर निलंबन का निदेश दिया.

सांसद

उन्होंने कहा कि कार्यक्रम में अनुपस्थित सभी अधिकारियों को निलंबित कर देना चाहिए. वहीं, योजनाओं के धरातल पर न पहुंचने की बात पर प्रखंड विकास पदाधिकारी व अंचलाधिकारी की भी क्लास लगायी. उन्होंने कहा कि प्रखंड के विकास का जिम्मा आपको दिया गया है, जिसे बखुबी निभाना आपकी ड्यूटी है. सभी विकास योजनाएं जनता तक पहुंच रही है या नहीं इसे जांच कर सुनिश्चित करें और कार्य न करने वाले अधिकारियों व कर्मचारियों के खिलाफ तुरंत एक्शन लें. 

एक माह में होगा डहुआ का विकासः 

अपने संबोधन में सांसद डाॅ0 निशिकांत दुबे ने कहा कि डहुआ में जो विकास का कार्य 70 सालों में न हो सका, वह एक माह के अंदर होगा यह उनका वादा है यहां की जनता से. सांसद ने अधिकारियों को ग्रामीण क्षेत्रों में शिविर लगाकर समस्याओं के निबटारे के निर्देश दिये. 

मृतक जवान के परिवार से की मुलाकातः 

सासद

कार्यक्रम के बाद सांसद निशिकांत गोला निवासी मृतक बीएसएफ जवान पंकज कुमार साह के परिवार से मिलने पहुंचे. मौके पर परिवार वालों ने सांसद से जवान को शहीद घोषित करने की मांग की. सांसद ने भरोसा दिया कि भारत सरकार के नियमानुसार उन्हें सारा लाभ मिलेगा. सरकार हर संभव मदद उनकी करेगी. वहीं, उन्होंने यह भी कहा कि मौत पर राजनीति नहीं होनी चाहिए. हर संभव मदद की कोशिश की जायेगी. 

Leave a Reply

Hot Topics

Related Articles

Don`t copy text!