spot_img

नक्सलवाद के खात्मे के लिए सख्ती व विकास की गति दोनों जरूरी


बोकारोः 

केन्द्र सरकार ने उग्रवाद प्रभावित बोकारो जिले के नक्सल प्रभावित क्षेत्र को विशेष तौर पर विकास से जोड़ने के लिए चुना है. केन्द्रीय सहायता योजना के तहत जिले के सर्वाधिक नक्सल प्रभावित 26 पंचायतो को 127 गांवो को विकास के लिए चुनकर सरकार ने 28 करोड़ की रकम सुलभ करायी है. 

सरकार की इस पहल को नक्सलमुक्त झारखण्ड की पहल के तौर पर देखा जा रहा है और इसके लिए कल से जिले के 37 पदाधिकारी अलग अलग पंचायतो मे जाकर सुबह से ही ग्रामसभा कर विकास की योजना का निर्माण करेंगे.ये बाते समाहरणालय में मीडिया से बातचीत करते हुए डीसी मृत्युजंय कुमार वर्णवाल और एसपी कार्तिक एस ने संयुक्त रुप से कही.

उन्होने कहा कि विकास को धरातल पर उतारने के लिए सरकारी अफसरो को गांवो व पंचायतो मे दौड़ाकर ग्रामीणो से उनकी मर्जी की योजना जानने व उनको तीन माह के अंदर पूर्ण कर लोगो का दिल जीतने व प्रशासन की साख बढ़ाने की कवायद तेज की है. इस कवायद में जिले के कार्यपालक पदाधिकारी स्तर के साथ जिले के कई अधिकारी व अनुमंडलाधिकारी स्तर के अधिकारियों को शामिल किया गया है. 

प्रशासन का मानना है कि नक्सलवाद के खात्मे के लिए बंदूक की सख्ती व विकास की गति दोनो जरुरी है. सुदूर इलाको के विकास से ही अंतिम व्यक्ति मे खड़े लोगो का दिल जीता जा सकता है और नक्सलवाद को खत्म किया जा सकता है.

Leave a Reply

Hot Topics

Related Articles

Don`t copy text!