Global Statistics

All countries
177,215,528
Confirmed
Updated on Wednesday, 16 June 2021, 1:53:28 am IST 1:53 am
All countries
159,905,018
Recovered
Updated on Wednesday, 16 June 2021, 1:53:28 am IST 1:53 am
All countries
3,832,823
Deaths
Updated on Wednesday, 16 June 2021, 1:53:28 am IST 1:53 am

Global Statistics

All countries
177,215,528
Confirmed
Updated on Wednesday, 16 June 2021, 1:53:28 am IST 1:53 am
All countries
159,905,018
Recovered
Updated on Wednesday, 16 June 2021, 1:53:28 am IST 1:53 am
All countries
3,832,823
Deaths
Updated on Wednesday, 16 June 2021, 1:53:28 am IST 1:53 am
spot_imgspot_img

बाबाधाम से बासुकिनाथधाम तक रिंग रोड, कांवरियों के लिए बनेगा घास पथ


देवघरः 

बाबाधाम देवघर से बासुकिनाथ धाम तक करीब 80 किलोमीटर तक रिंग रोड का निर्माण कराया जाना है. साथ ही कांवरियों के लिये अलग से 14 फीट का सड़क निर्माण कराया जायेगा, जिसमें घास पथ तो होगा ही साथ ही लाईटिंग की भी पूरी व्यवस्था रहेगी. इस बात की जानकारी सांसद निशिकांत दुबे ने दी. 

road

देवघर सर्किट हाउस में गोड्डा सांसद निशिकांत दुबे ने प्रेस कांफ्रेंस का आयोजन किया. प्रेस कांफ्रेंस के माध्यम से सांसद ने देवघर के विकास से संबंधित जानकारी दी. सांसद ने बताया कि बाबाधाम देवघर से बासुकिनाथ धाम तक करीब 80 किलोमीटर तक रिंग रोड का निर्माण कराया जाना है. साथ ही कांवरियों के लिये अलग से 14 फीट का सड़क निर्माण कराया जायेगा, जिसमें घास पथ तो होगा ही साथ ही लाईटिंग की भी पूरी व्यवस्था रहेगी. यह प्रोजेक्ट लगभग 14 सौ करोड़ रूपये की लागत से 2018 में ही पूरा कर लिया जायेगा. 

उन्होंने बताया कि इस प्रोजेक्ट का डी.पी.आर मई-जून तक सबमिट कर दिया जायेगा और जुलाई-अगस्त में काम शुरू कर दिया जायेगा. वहीं सांसद द्वारा अनुमानित किया गया कि इसी साल यानि 2018 में ही यह निर्माण कार्य पूरा कर लिया जायेगा. 

sansad
सांसद ने कहा कि कांवरियों को घास का पथ मिले यह सबसे बड़ी खुशी की बात है. यह प्रोजेक्ट चार बायपास शहरों से होकर गुज़रेगा जिसमें घोरमारा, सहारा, जरमुंडी ओर तलझारी शामिल हैं. इस प्रोजेक्ट की खासियत यह है कि जिन रास्तों पर सड़क निर्माण होना है, उन रास्तों में मुश्किल से 50-60 घर ही प्रभावित होंगे. यह अच्छी बात है कि इस प्रोजेक्ट से प्रभावित होने वाले परिवारों की संख्या काफी कम है. इसलिये यह प्रोजेक्ट आसानी से पूरा किया जा सकता है.

Leave a Reply

Hot Topics

Related Articles