Global Statistics

All countries
177,203,103
Confirmed
Updated on Wednesday, 16 June 2021, 12:53:11 am IST 12:53 am
All countries
159,889,241
Recovered
Updated on Wednesday, 16 June 2021, 12:53:11 am IST 12:53 am
All countries
3,832,376
Deaths
Updated on Wednesday, 16 June 2021, 12:53:11 am IST 12:53 am

Global Statistics

All countries
177,203,103
Confirmed
Updated on Wednesday, 16 June 2021, 12:53:11 am IST 12:53 am
All countries
159,889,241
Recovered
Updated on Wednesday, 16 June 2021, 12:53:11 am IST 12:53 am
All countries
3,832,376
Deaths
Updated on Wednesday, 16 June 2021, 12:53:11 am IST 12:53 am
spot_imgspot_img

वाहः एसडीओ बने ‘क्लीन मैन‘, 1947 के बाद पहली बार नाला की सफाई

रिपोर्टः एजाज़ अहमद

देवघर/मधुपुरः 

मधुपुर में स्वच्छता अभियान की गाथा सुनहरे अक्षरों में लिखा जा रहा है. स्वच्छता की ओर बढ़ता यह शहर अब और भी सुंदर और स्वच्छ दिखने लगा है. कचड़ों का ढेर, गंदगी का अंबार और बदबू फैलाने वाली नालियां और गलियां, चौक-चौराहें साफ सुथरी हो गयी है. एक ऐसी शख्सियत ने मधुपुर को बदलने का काम किया है. जिन्हें नगरवासी ‘क्लीन मैन’ के नाम से पुकराते हैं. आज इसी क्लीन मैन ने मधुपुर की तस्वीर बदल दी है. 

यहां बात हो रही है मधुपुर एसडीओ सह नगर पर्षद के कार्यपालक पदाधिकारी नंद किशोर लाल की. जिन्होंने न सिर्फ शहर को सुंदर और स्वच्छ बनाने का बीड़ा उठाया है बल्कि नगर पर्षद के कोष में भी इजाफा कर रहे हैं. क्लीन मैन नंद किशोर लाल ने वो काम कर दिखाया है. जो आजादी के बाद से आज तक किसी भी नगर पर्षद के पदाधिकारियों ने शायद की हो. 

नाला

आजादी के बाद पहली बार नाले की सफाईः 

मधुपुर का स्टेशन रोड काफी व्यस्त इलाका है. जहां सैकड़ों स्थायी व फुटपाथी दुकानें है. हजारों लोगों का आना-जाना लगा रहता है. ठीक इसी सड़क किनारे ब्रिटिश काल में बना एक लंबा नाला भी है. जो कई वर्षों पूर्व अपना अस्तित्व खो बैठा था. यानि इसकी साफ-सफाई नहीं किये जाने से राहगीर और दुकानदार काफी परेशानी झेलते आ रहे थे. आज इन्हीं परेशानियों को दूर करने का बीड़ा दृढ़ संकल्पित ‘क्लीन मैन’ ने उठाया है. अपनी देख-रेख और सामाजिक कार्यकर्ताओं की मदद से दिन और रात मजदूरों को लगाकर नाली की सफाई और मरम्मती करायी जा रही है. स्टेशन रोड की नाली की सफाई किये जाने से नगर वासियों में काफी खुशी है. लोग बस यही कह रहें है कि अब हमारा मधुपुर बदल गया है. 

युवाओं की बदली सोचः

एसडीओ नंद किशोर लाल की प्रबल इच्छा शक्ति ने यहां के युवाओं की भी सोच बदल दी है. अब लोग चाय के भांड़ को सड़क पर नहीं डस्टबीन में डालते हैं. कचरों को इधर-उधर नहीं फेंका जाता है. मधुपुर के युवा समाजसेवी किषन बथवाल, मो शाहीद, राजेश कुमार, शौकत नाज, कन्हैया लाल कन्नू ऐसे स्तंभ है जिन्होंने मधुपुर को एक नया आयाम देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाया है. बस जरूरत है इसे बरकरार रखने की.

Leave a Reply

Hot Topics

Related Articles