Global Statistics

All countries
176,201,698
Confirmed
Updated on Saturday, 12 June 2021, 10:20:55 pm IST 10:20 pm
All countries
158,445,557
Recovered
Updated on Saturday, 12 June 2021, 10:20:55 pm IST 10:20 pm
All countries
3,803,117
Deaths
Updated on Saturday, 12 June 2021, 10:20:55 pm IST 10:20 pm

Global Statistics

All countries
176,201,698
Confirmed
Updated on Saturday, 12 June 2021, 10:20:55 pm IST 10:20 pm
All countries
158,445,557
Recovered
Updated on Saturday, 12 June 2021, 10:20:55 pm IST 10:20 pm
All countries
3,803,117
Deaths
Updated on Saturday, 12 June 2021, 10:20:55 pm IST 10:20 pm
spot_imgspot_img

नहीं बख़्शे जायेंगे महिलाओं को प्रताड़ित करने वाले

रिपोर्ट: राजकुमार साह 


देवघरः

अब महिलाओं पर अत्याचार करने वालों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई की जायेगी. पुलिस व प्रशासन को झारखंड राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष ने निदेश दिया है किसी भी हाल में महिलाओं को प्रताड़ित करने वालों को न बख्शा जाये. 

आदालत

देवघर में झारखंड राज्य महिला आयोग द्वारा ओपन कोर्ट का आयोजन किया गया. ओपन कोर्ट के तहत देवघर परिसदन सभागार में झारखंड राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष कल्याणी शरण, सदस्य शर्मिला सोरेन, पूनम प्रकाश और आरती राणा द्वारा महिला अत्याचार से संबंधित विभिन्न मामलों की सुनवाई की गयी. ओपेन कार्ट में मामलों की सुनवाई के क्रम में कई पीड़ित महिलाओं द्वारा अपनी समस्या आयोग के समक्ष रखी गई. जिस पर आयोग की अध्यक्ष द्वारा मामलों की जाँच करने का निदेश देवघर एसपी को दिया गया और कहा गया कि घरेलू हिंसा से संबंधित जो भी केस आये, उस पर त्वरित कार्रवाई करते हुए निष्पादन किया जाय. 

ओपेन कोर्ट से पूर्व देवघर परिसदन सभागार में झारखंड राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष कल्याणी शरण द्वारा जिले के एसपी, एडीसी, एसडीएम, सीडीपीओ और शिक्षा विभाग की महिला पदाधिकारियों के साथ बैठक की गयी. बैठक में घरेलू हिंसा, महिला अत्याचार, दहेज प्रताड़ना, डायन बिसाही, यौन उत्पीड़न व अन्य शारीरिक, मानसिक दुव्र्यवहार से पीड़ित महिलाओं को कैसे सहयोग किया जाए, इस पर विस्तार पूर्वक चर्चा की गयी. 

बैठक
इस दौरान एसपी द्वारा पिछले दो वर्षों में देवघर जिला के विभिन्न थानों में महिला अत्याचार से संबंधित दर्ज सभी काण्डों की विवरणी व डायन बिसाही के दर्ज मामले की विस्तृत जानकारी आयोग को उपलब्ध करायी गई. साथ ही जिला समाज कल्याण पदाधिकारी द्वारा देवघर के कामगार महिलाओं, छात्राओं के छात्रावास से संबंधित जानकारी और सभी बाल विकास परियोजना पदाधिकारी द्वारा अपने क्षेत्र के घरेलू हिंसा एक्ट 2005 के तहत् डी0आई0आर0 फाॅर्म भरने संबंधी विस्तृत जानकारी आयोग को दी गयी. 
आयोग द्वारा सिविल सर्जन देवघर को पी0सी0पी0एन0डी0टी0 एक्ट के तहत् कृत कार्रवाई संबंधी ब्यौरा उपलब्ध कराने का निदेश दिया गया. साथ ही राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष द्वारा वहां उपस्थित सभी बाल विकास परियोजना पदाधिकारी को निदेशित किया गया कि उनके द्वारा आँगनबाड़ी केन्द्रों के माध्यम से लोगों के बीच घरेलू हिंसा प्रतिषेध अधिनियम से संबंधित जागरूकता फैलाई जाय. 
झारखंड राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष ने मीडिया कर्मियों से बात करते हुए कहा कि राज्य महिला आयोग सभी महिलाओं की सुरक्षा और सहयोग के लिए हमेशा तत्पर है. घरेलू हिंसा, यौन उत्पीड़न व अन्य शारीरिक, मानसिक दुव्र्यवहार से पीड़ित महिलाओं का सहयोग करना और उन्हें न्याय दिलाना आयोग का मुख्य उद्देश्य है, लेकिन यह भी आवश्यक है कि महिलाएं स्वयं जागरूक हो, आगे आयें और अपने साथ हो रहे दुव्र्यवहार या घरेलू हिंसा की शिकायत नजदीकी थाना में दर्ज करायें. ताकि उनके शिकायत के आधार पर जांच कर दोषी के विरूद्ध उचित कार्रवाई की जा सके. इसके लिए वे महिला आयोग का सहयोग भी ले सकते हैं.
झारखंड राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष ने बताया कि यहां पर अधिक से अधिक घरेलू हिंसा और दहेज प्रताड़ना है. जिसपर रोक लगाने के लिए पुलिस और प्रशासन के साथ बैठक की गयी. महिला पर अत्याचार करने वाले व्यक्ति अगर पकड़े जाते हैं तो उसपर सख्त से सख्त कार्रवाही की जाएगी. महिला आयोग वैसे व्यक्तियों को कभी भी नहीं बख्शेगी. सभी जिले के एसपी को यह निर्देश दिया जाएगा कि जो लोग महिला को प्रताड़ित करते हैं वैसे लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाही करें. क्योंकि महिलाओं को न्याय दिलाना ही महिला आयोग का मुख्य उद्येश्य है.  
साथ ही बताया गया कि आयोग द्वारा इस वर्ष से महिला उत्पीड़न व घरेलु हिंसा से संबंधित मामलों के त्वरित निष्पादन करने की दिशा में उत्कृष्ट कार्य करने वाले उपायुक्त व पुलिस अधीक्षक को राज्य स्तर पर सम्मानित किया जायेगा ताकि दूसरे लोग भी उनके समान कार्य करने को प्रेरित हो सकें. 

Leave a Reply

Hot Topics

Related Articles