Global Statistics

All countries
176,217,468
Confirmed
Updated on Saturday, 12 June 2021, 11:21:02 pm IST 11:21 pm
All countries
158,466,080
Recovered
Updated on Saturday, 12 June 2021, 11:21:02 pm IST 11:21 pm
All countries
3,803,257
Deaths
Updated on Saturday, 12 June 2021, 11:21:02 pm IST 11:21 pm

Global Statistics

All countries
176,217,468
Confirmed
Updated on Saturday, 12 June 2021, 11:21:02 pm IST 11:21 pm
All countries
158,466,080
Recovered
Updated on Saturday, 12 June 2021, 11:21:02 pm IST 11:21 pm
All countries
3,803,257
Deaths
Updated on Saturday, 12 June 2021, 11:21:02 pm IST 11:21 pm
spot_imgspot_img

सालभर से अधूरा पड़ा है शौचालय

रिपोर्ट: गौतम मंडल


देवघर / पालोजोरी:

स्वच्छ भारत मिशन के तहत इसीएल के सीएसआर फंड से पालोजोरी प्रखंड के कई विद्यालयों में शौचालय का निर्माण किया जा रहा है. लेकिन शौचालय निर्माण के नाम पर गड़बड़ी का भी मामला सामने आ रहा.  

विद्यालय
इसीएल के सीएसआर फंड से कई विद्यालयों में बन रहे शौचालय करीब साल भर से अधुरे पड़े हैं. जो शौचालय निर्माण के नाम पर व्यापक गड़बड़ी की ओर इशारा कर रही है. दिलचस्प बात यह है कि खुद शिक्षको और प्रबंधन समिति को शौचालय निर्माण के बारे में किसी प्रकार की जानकारी नहीं दी गई है.                                  ताज़ा मामला पालोजोरी प्रखंड के जीवनाबांध पंचायत अंतर्गत उत्क्रमित प्राथमिक विद्यालय छैलापाथर का है. जहाँ इसीएल के सीएसआर फंड से वर्ष 2015-16 के तहत शौचालय निर्माण कार्य शुरू हुआ जो अबतक अधूरा पड़ा है. इस वजह से शौचालय उपयोगविहीन बना हुआ है. वहीं विद्यालय के बच्चे खुले में शौच जाने को मजबूर हैं. 

ecल
इस बावत उत्क्रमित प्राथमिक विद्यालय छैलापाथर के प्रबंधन समिति अध्यक्ष महबूब अंसारी ने कहा कि विद्यालय में शौचालय पालोजोरी के ही एक व्यक्ति ने बनाया है. लेकिन इसे अधूरा छोड़ कर ही वह चला गया. यहाँ तक की शौचालय की चाभी भी उसी के पास है. बाहर से शौचालय पूरा कर दिया गया है लेकिन न तो पानी के लिए टंकी लगा है और न ही अन्दर से पुरे काम किये गये हैं. 
वहीं पालोजोरी प्रखंड स्थित उत्क्रमित प्राथमिक विद्यालय लेटो, दलदली व चकतरना में भी इसीएल के सीएसआर फंड से निर्मित शौचालय अधूरा अवस्था में ही है. इस ओर न तो इसीएल प्रबंधन का ध्यान है न ही संबंधित विभाग का. जो जांच का विषय बना हुआ है. साथ ही स्कूलों में शौचालय के नहीं होने से बच्चों को काफी परेशानी होती है. 

Leave a Reply

Hot Topics

Related Articles