spot_img
spot_img

यहां नहीं होता है रावण दहन


देवघर:

बुराई पर अच्छाई की विजय के प्रतीक के रुप में दशहरा का पर्व मनाया जाता है. यही कारन है कि देश के कोने-कोने में और विदेशों में भी लोग दशहरा के अवसर पर बुराई के प्रतीक रावण का पुतला दहन कर खुशियां मनाते हैं. साथ ही एक-दूसरे को इस विजय पर विजयादशमी की शुभकामनायें देते हैं.
लेकिन अन्य जगहों की परंपरा से अलग हट कर देवघर में विजयादशमी के अवसर पर रावण का पुतला दहन नहीं किया जाता है. जानकारों की मानें तो देवघर में रावण द्वारा ही पवित्र द्वादश ज्योतिर्लिंग की स्थापना की गयी है. यही वजह है कि देवघर को रावण की तपोभूमि माना जाता है और यहाँ स्थापित पवित्र द्वादश ज्योतिर्लिंग को रावणेश्वर महादेव के नाम से भी जाना जाता है. 

ravan                                                                                                                           काॅन्सेप्ट इमेज

बाबा मंदिर के पुरोहित दुर्लभ मिश्रा ने बताया कि विश्व में रावण की पहचान दो रुपों में की जाती है. एक तो राक्षसपति दशानन रावण के तौर पर और दूसरा वेद-पुराणों के ज्ञाता प्रकांड पंडित और विद्वान रावण के रुप में. देवघर में रावण द्वारा पवित्र द्वादश ज्योतिर्लिंग की स्थापना के कारण उसके दूसरे रुप की अधिक मान्यता है. यही कारन है कि रावणेश्वर महादेव की भूमि देवघर में दशहरा के अवसर पर रावण का पुतला दहन नहीं किया जाता है. 

Leave a Reply

Hot Topics

Related Articles

Don`t copy text!