Global Statistics

All countries
233,072,525
Confirmed
Updated on Tuesday, 28 September 2021, 8:33:19 am IST 8:33 am
All countries
208,065,400
Recovered
Updated on Tuesday, 28 September 2021, 8:33:19 am IST 8:33 am
All countries
4,769,327
Deaths
Updated on Tuesday, 28 September 2021, 8:33:19 am IST 8:33 am

Global Statistics

All countries
233,072,525
Confirmed
Updated on Tuesday, 28 September 2021, 8:33:19 am IST 8:33 am
All countries
208,065,400
Recovered
Updated on Tuesday, 28 September 2021, 8:33:19 am IST 8:33 am
All countries
4,769,327
Deaths
Updated on Tuesday, 28 September 2021, 8:33:19 am IST 8:33 am
spot_imgspot_img

न बिजली,न बेड.. ये कैसा स्वास्थ्य उपकेंद्र!

रिपोर्ट- गौतम मंडल


दुमका:-                       

आदिम जनजाति पहाड़िया समुदाय पर सरकारी व्यवस्था की मेहरबानी के दावे ज़मीनी हकीकत के आगे झूठे साबित हो जाते हैं. यही दावा फेल होता नज़र आता है सूबे की कल्याण मंत्री डाॅ0 लोईस मरांडी के अपने ही विधानसभा क्षेत्र दुमका में. जहां कल्याण विभाग ने व्यवस्था के नाम पर पहाड़िया समुदाय से मज़ाक किया है. 

दुमका सदर प्रखंड के भूलपहाड़ और मसलिया प्रखंड के तालडंगाल पहाड़िया स्वास्थ्य उपकेंद्र में कल्याण विभाग द्वारा पहाड़िया स्वास्थ्य उपकेंद्र संचालित किया जा रहा है. यहां विभाग का दावा है कि पहाड़िया समुदाय के लोगों को स्वास्थ्य संबंधित सेवाएं दी जाती है. लेकिन हकीकत इससे कोसो दूर है. 

►पहाड़िया स्वास्थ्य उपकेंद्र भूलपहाड़ः-
दुमका-मसानजोर मुख्य मार्ग पर बासमाता चैक से लगभग सात किलोमीटर दूर स्थित पहाड़िया स्वास्थ्य उपकेंद्र भूलपहाड़. यहां भवन है, लेकिन बिजली नहीं. दो किलोमीटर पहाड़ पर पैदल चलकर एएनएम यहां पहुंचती है. इस उपकेंद्र में रोगियों के लिए एक अदद बेड तक नहीं है. लिहाजा एएनएम मेरीनीला हांसदा केंद्र आई हुई महिलाआंे को जमीन में चटाई पर लिटाकर इंजेक्शन देती है. पूछने पर एएनएम कहती हैं कि तीन बेड था, टूट गया है. विभाग को लिखा गया है लेकिन अबतक बेड उपलब्ध नहीं कराया गया है. ऐसे में कमजोरी का जो भी पेसेंट आता है जमीन पर लिटाकर ही विटामिन की सूई देती हूं. उन्होंने कहा कि बिजली कनेक्शन नही है, इसलिए टेटभैक के इंजेक्शन के लिए रोगियों को अन्य जगह भेज देती हूं. 

►पहाड़िया स्वास्थ्य उपकेंद्र तालडंगालः-
मसानजोर डैम के नीचे तालडंगाल गांव में स्थित है हाड़िया स्वास्थ्य उपकेंद्र तालडंगाल. जो 1994 से संचालित है. यहां भी भवन है लेकिन बिजली नहीं. यहां के लोग बताते है कि डाक्टर साहब सिर्फ केंद्र में सोमवार को ही आते है वह भी 11-12 बजे. जबकि, समय है आठ बजे. कभी-कभार सोमवार को भी नदारद रहते हैं ऐसे में मरीजों को काफी परेशानी हो जाती है. सीरियस रोगी को दुमका या सिउड़ी ले जाना पडता है. स्थानीय लोगों ने तो यहां तक कहा कि पहाड़िया स्वास्थ्य उपकेंद्र तालडंगाल में नियुक्त चिकित्सक को सोमवार छोड़ अगर किसी और दिन फोन करते है तो डाॅक्टर साहब फीस की डिमांड करते हैं. ऐसे में कभी-कभी एएनएम भी लेट हो जाती हैं. पुछे जाने पर चिकित्सक और एएनएम ने कहा कि किसी निजी काम से उन्हें देर हो गयी. 

बहरहाल, दोनो केन्द्रों की हालत यहां की व्यवस्था खुद बयां कर रही है. सरकार ने इसे बनाया जरूर है गरीबों की सेवा के लिए. लेकिन इन केंद्रों को खुद सेवा की जरूरत है. 

Leave a Reply

spot_img

Hot Topics

Related Articles

Don`t copy text!